प्रस्तुत उलझनें और दुष्प्रवृत्तियाँ कहीं आसमान से नहीं टपकीं। वे मनुष्य की अपनी बोयी, उगाई और बढ़ाई हुई हैं - prastut uljhane aur dushpravrittiyan kahin aasman se nahi tapkee. ve manushya ki apni boyi, ugaai aur badhaayi hui hain. : प्रज्ञा सुभाषित

प्रस्तुत उलझनें और दुष्प्रवृत्तियाँ कहीं आसमान से नहीं टपकीं। वे मनुष्य की अपनी बोयी, उगाई और बढ़ाई हुई हैं। : Prastut uljhane aur dushpravrittiyan kahin aasman se nahi tapkee. ve manushya ki apni boyi, ugaai aur badhaayi hui hain. - प्रज्ञा सुभाषित

पादरी, मौलवी और महंत भी जब तक एक तरह की बात नहीं कहते, तो दो व्यक्तियों में एकमत की आशा की ही कैसे जाए? - padri maulwi aur mahant bhi jab tak ek jaisi baat nahi karte to do vyaktiyo mein ek-mat ki apeksha kaise ki jaaye : प्रज्ञा सुभाषित

पादरी, मौलवी और महंत भी जब तक एक तरह की बात नहीं कहते, तो दो व्यक्तियों में एकमत की आशा की ही कैसे जाए? : Padri maulwi aur mahant bhi jab tak ek jaisi baat nahi karte to do vyaktiyo mein ek-mat ki apeksha kaise ki jaaye - प्रज्ञा सुभाषित