हमें जो स्वतंत्रता मिली है उसके लिए हम क्या कर रहे हैं? यह स्वतंत्रता हमें अपनी सामाजिक व्यवस्था को सुधारने के लिए मिली है। जो असमानता, भेदभाव और अन्य चीजों से भरी हुई है, जो हमारे मौलिक अधिकारों के साथ संघर्ष करती है - hamen jo mukti milee hai usake lie ham kya kar rahe hain? yah hamen apanee saamaajik vyavastha ko sudhaarane ke lie milee hai. jo asamaanata, bhedabhaav aur any cheejon se bharee huee hai, jo hamaare maulik adhikaaron ke saath sangharsh karata hai. : डॉ॰ बी॰ आर॰ अम्बेडकर

हमें जो स्वतंत्रता मिली है उसके लिए हम क्या कर रहे हैं? यह स्वतंत्रता हमें अपनी सामाजिक व्यवस्था को सुधारने के लिए मिली है। जो असमानता, भेदभाव और अन्य चीजों से भरी हुई है, जो हमारे मौलिक अधिकारों के साथ संघर्ष करती है। : Hamen jo mukti milee hai usake lie ham kya kar rahe hain? yah hamen apanee saamaajik vyavastha ko sudhaarane ke lie milee hai. jo asamaanata, bhedabhaav aur any cheejon se bharee huee hai, jo hamaare maulik adhikaaron ke saath sangharsh karata hai. - डॉ॰ बी॰ आर॰ अम्बेडकर

राष्ट्रवाद तभी औचित्य ग्रहण कर सकता है, जब लोगों के बीच जाति, नस्ल या रंग का अन्तर भुलाकर उनमें सामाजिक भ्रातृत्व को सर्वोच्च स्थान दिया जाये - raashvaadavaad keval auchity grahan kar sakata hai, jab logon ke beech jaati, nasal ya rang ka anaarat bhulaakar unamen saamaajik bhraatrkrtav ko god lene kee anumati dee jaegee. : डॉ॰ बी॰ आर॰ अम्बेडकर

राष्ट्रवाद तभी औचित्य ग्रहण कर सकता है, जब लोगों के बीच जाति, नस्ल या रंग का अन्तर भुलाकर उनमें सामाजिक भ्रातृत्व को सर्वोच्च स्थान दिया जाये। : Raashvaadavaad keval auchity grahan kar sakata hai, jab logon ke beech jaati, nasal ya rang ka anaarat bhulaakar unamen saamaajik bhraatrkrtav ko god lene kee anumati dee jaegee. - डॉ॰ बी॰ आर॰ अम्बेडकर

हम सिर्फ खुद के लिए ही नहीं, बल्कि पुरे विश्व की शांति, विकास और कल्याण में विश्वास रखते हैं - ham sirph khud ke lie hee nahin, balki pure vishv kee shaanti, vikaas aur kalyaan mein vishvaas rakhate hain. : लाल बहादुर शास्त्री

हम सिर्फ खुद के लिए ही नहीं, बल्कि पुरे विश्व की शांति, विकास और कल्याण में विश्वास रखते हैं। : Ham sirph khud ke lie hee nahin, balki pure vishv kee shaanti, vikaas aur kalyaan mein vishvaas rakhate hain. - लाल बहादुर शास्त्री