इतिहास गवाह है जब नैतिकता और अर्थशास्त्र के बीच संघर्ष हुआ है वहां जीत हमेशा अर्थशास्त्र की होती है - itihaas gavaah hai jab naitikata aur dharmashaastr ke beech sangharsh hua hai vahaan jeet hamesha arthashaastr kee hotee hai. : डॉ॰ बी॰ आर॰ अम्बेडकर

इतिहास गवाह है जब नैतिकता और अर्थशास्त्र के बीच संघर्ष हुआ है वहां जीत हमेशा अर्थशास्त्र की होती है। : Itihaas gavaah hai jab naitikata aur dharmashaastr ke beech sangharsh hua hai vahaan jeet hamesha arthashaastr kee hotee hai. - डॉ॰ बी॰ आर॰ अम्बेडकर

हम उपनिवेशवाद और साम्राज्यवाद के अंत के लिए पूर्ण समर्थन देना अपना नैतिक कर्तव्य समझेंगे, ताकि हर जगह लोग अपने भाग्यनिर्माण के लिए स्वतंत्र हों - ham upaniveshavaad aur saamraajyavaad ke ant ke lie poorn samarthan dete hain apanee naitikata ko samajhenge, taaki har jagah log apane bhaagy prograaming ke svatantr roop se hon. : लाल बहादुर शास्त्री

हम उपनिवेशवाद और साम्राज्यवाद के अंत के लिए पूर्ण समर्थन देना अपना नैतिक कर्तव्य समझेंगे, ताकि हर जगह लोग अपने भाग्यनिर्माण के लिए स्वतंत्र हों। : Ham upaniveshavaad aur saamraajyavaad ke ant ke lie poorn samarthan dete hain apanee naitikata ko samajhenge, taaki har jagah log apane bhaagy prograaming ke svatantr roop se hon. - लाल बहादुर शास्त्री

मेरे दिमाग में यह बात आती है कि सर्वप्रथम उन लोगों को राहत दी जाए । हर रोज हर समय मैं यही सोचता हूं कि उन्हे किस प्रकार से राहत पहुंचाई जाए - mere dimaag mein yah baat aatee hai ki sarvapratham un logon ko raahat dee jaanee chaahie. har roj har samay main yahee sochata hoon ki unhe kis prakaar se raahat pahunchaee jae. : लाल बहादुर शास्त्री

मेरे दिमाग में यह बात आती है कि सर्वप्रथम उन लोगों को राहत दी जाए । हर रोज हर समय मैं यही सोचता हूं कि उन्हे किस प्रकार से राहत पहुंचाई जाए। : Mere dimaag mein yah baat aatee hai ki sarvapratham un logon ko raahat dee jaanee chaahie. har roj har samay main yahee sochata hoon ki unhe kis prakaar se raahat pahunchaee jae. - लाल बहादुर शास्त्री

मुझे ग्रामीण क्षेत्रों में एक मामूली कार्यकर्ता के रूप में लगभग पचास वर्ष तक कार्य करना पड़ा है, इसलिए मेरा ध्यान स्वत: ही उन लोगों की ओर तथा उन क्षेत्रों के हालात पर चला जाता है - mujhe graameen kshetron mein ek maamoolee kaaryakarta ke roop mein lagabhag pachaas varsh tak kaary karana pada hai, isalie mera dhyaan svatah: keval un logon kee or aur un kshetron ke haalaat par chala jaata hai. : लाल बहादुर शास्त्री

मुझे ग्रामीण क्षेत्रों में एक मामूली कार्यकर्ता के रूप में लगभग पचास वर्ष तक कार्य करना पड़ा है, इसलिए मेरा ध्यान स्वत: ही उन लोगों की ओर तथा उन क्षेत्रों के हालात पर चला जाता है। : Mujhe graameen kshetron mein ek maamoolee kaaryakarta ke roop mein lagabhag pachaas varsh tak kaary karana pada hai, isalie mera dhyaan svatah: keval un logon kee or aur un kshetron ke haalaat par chala jaata hai. - लाल बहादुर शास्त्री

मेरी समझ से प्रशासन का मूल विचार यह है कि समाज को एकजुट रखा जाये ताकि वह विकास कर सके और अपने लक्ष्‍यों की तरफ बढ़ सके - meree samajh se prashaasan ka mool vichaar yah hai ki samaaj ko ekajut rakhana chaahie taaki vah vikaas kar sake aur apane lakshon kee taraph badh sake. : लाल बहादुर शास्त्री

मेरी समझ से प्रशासन का मूल विचार यह है कि समाज को एकजुट रखा जाये ताकि वह विकास कर सके और अपने लक्ष्‍यों की तरफ बढ़ सके। : Meree samajh se prashaasan ka mool vichaar yah hai ki samaaj ko ekajut rakhana chaahie taaki vah vikaas kar sake aur apane lakshon kee taraph badh sake. - लाल बहादुर शास्त्री

जो शासन करते हैं, उन्हे देखना चाहिए कि लोग प्रशासन पर किस तरह प्रतिक्रिया करते हैं। अंततः जनता ही मुखिया होती है - jo shaasan karate hain, unhe dekhana chaahie ki log prashaasan par kis tarah pratikriya karate hain. antim saarvajanik hee mukhiya hota hai. : लाल बहादुर शास्त्री

जो शासन करते हैं, उन्हे देखना चाहिए कि लोग प्रशासन पर किस तरह प्रतिक्रिया करते हैं। अंततः जनता ही मुखिया होती है। : Jo shaasan karate hain, unhe dekhana chaahie ki log prashaasan par kis tarah pratikriya karate hain. antim saarvajanik hee mukhiya hota hai. - लाल बहादुर शास्त्री

हर कार्य की अपनी एक गरिमा है और हर कार्य को अपनी पूरी क्षमता से करने में ही संतोष प्राप्त होता है - har kaary kee apanee ek garima hai aur har kaary ko apanee pooree kshamata se karane mein hee santosh praapt hota hai. : लाल बहादुर शास्त्री

हर कार्य की अपनी एक गरिमा है और हर कार्य को अपनी पूरी क्षमता से करने में ही संतोष प्राप्त होता है। : Har kaary kee apanee ek garima hai aur har kaary ko apanee pooree kshamata se karane mein hee santosh praapt hota hai. - लाल बहादुर शास्त्री