अधिक संपत्ति नहीं, बल्कि सरल आनंद को खोजें। बड़े भाग्य नहीं, बल्कि परम सुख को खोजें - adhik sampatti nahin, balki saral aanand ko khojen. bade bhaagy nahin, balki param sukh ko khojen. : महात्मा गाँधी

अधिक संपत्ति नहीं, बल्कि सरल आनंद को खोजें। बड़े भाग्य नहीं, बल्कि परम सुख को खोजें। : Adhik sampatti nahin, balki saral aanand ko khojen. bade bhaagy nahin, balki param sukh ko khojen. - महात्मा गाँधी

पूंजी अपने-आप में बुरी नहीं है, उसके गलत उपयोग में ही बुराई है. किसी ना किसी रूप में पूंजी की आवश्यकता हमेशा रहेगी - punch apane-aap mein buree nahin hai, usake galat upayog mein hee spasht hai. kisee na kisee roop mein poonjee kee aavashyakata hamesha rahatee hai. : महात्मा गाँधी

पूंजी अपने-आप में बुरी नहीं है, उसके गलत उपयोग में ही बुराई है. किसी ना किसी रूप में पूंजी की आवश्यकता हमेशा रहेगी। : Punch apane-aap mein buree nahin hai, usake galat upayog mein hee spasht hai. kisee na kisee roop mein poonjee kee aavashyakata hamesha rahatee hai. - महात्मा गाँधी

अगर धन दूसरों की भलाई करने में मदद करे, तो इसका कुछ मूल्य है, अन्यथा, ये सिर्फ बुराई का एक ढेर है, और इससे जितना जल्दी छुटकारा मिल जाये उतना बेहतर है | - agar dhan doosaron kee bhalaee karane mein madad kare, to isaka kuchh mooly hai, anyatha, ye sirph spasht ka ek dher hai, aur isase jitanee jaldee chhutakaara mil jae utana behatar hai. : स्वामी विवेकानन्द

अगर धन दूसरों की भलाई करने में मदद करे, तो इसका कुछ मूल्य है, अन्यथा, ये सिर्फ बुराई का एक ढेर है, और इससे जितना जल्दी छुटकारा मिल जाये उतना बेहतर है | : Agar dhan doosaron kee bhalaee karane mein madad kare, to isaka kuchh mooly hai, anyatha, ye sirph spasht ka ek dher hai, aur isase jitanee jaldee chhutakaara mil jae utana behatar hai. - स्वामी विवेकानन्द