एक विचार को प्रसार की उतनी ही आवश्यकता होती है जितना कि एक पौधे को पानी की आवश्यकता होती है। नहीं तो दोनों मुरझाएंगे और मर जायेंगे - ek vichaar ko phailaane kee utanee hee aavashyakata hotee hai kyonki ek paudhe ko paanee kee aavashyakata hotee hai. nahin to donon murajhaenge aur mar jaenge. : लाल बहादुर शास्त्री

एक विचार को प्रसार की उतनी ही आवश्यकता होती है जितना कि एक पौधे को पानी की आवश्यकता होती है। नहीं तो दोनों मुरझाएंगे और मर जायेंगे। : Ek vichaar ko phailaane kee utanee hee aavashyakata hotee hai kyonki ek paudhe ko paanee kee aavashyakata hotee hai. nahin to donon murajhaenge aur mar jaenge. - लाल बहादुर शास्त्री

हमारे देश की अनोखी बात यह है कि हमारे यहाँ हिंदू, मुस्लिम, ईसाई, सिख, पारसी और अन्य सभी धर्मों के लोग रहते हैं। हमारे यहाँ मंदिर और मस्जिद, गुरुद्वारे और चर्च हैं। लेकिन हम यह सब राजनीति में नहीं लाते हैं। भारत और पाकिस्तान के बीच यही अंतर है - hamaare desh kee anokhee baat yah hai ki hamaare yahaan hindoo, muslim, eesaee, sikhaana, paarasee aur any sabhee dharmon ke log rahate hain. hamaare yahaan mandir aur masjid, gurudvaare aur charch hain. lekin ham yah sab raajaneeti mein nahin laate hain. bhaarat aur paakistaan ke beech ka antar hai. : लाल बहादुर शास्त्री

हमारे देश की अनोखी बात यह है कि हमारे यहाँ हिंदू, मुस्लिम, ईसाई, सिख, पारसी और अन्य सभी धर्मों के लोग रहते हैं। हमारे यहाँ मंदिर और मस्जिद, गुरुद्वारे और चर्च हैं। लेकिन हम यह सब राजनीति में नहीं लाते हैं। भारत और पाकिस्तान के बीच यही अंतर है। : Hamaare desh kee anokhee baat yah hai ki hamaare yahaan hindoo, muslim, eesaee, sikhaana, paarasee aur any sabhee dharmon ke log rahate hain. hamaare yahaan mandir aur masjid, gurudvaare aur charch hain. lekin ham yah sab raajaneeti mein nahin laate hain. bhaarat aur paakistaan ke beech ka antar hai. - लाल बहादुर शास्त्री

उसकी जाति, रंग या नस्ल जो भी हो, हम एक व्यक्ति के रूप में मनुष्य की गरिमा में और उसके बेहतर, संपूर्ण और समृद्ध जीवन के लिए उसके अधिकार पर विश्वास करते हैं - usakee jaati, rang ya nasl jo bhee ho, ham ek vyakti ke roop mein manushy kee garima mein aur usake behatar, sampoorn aur samrddh jeevan ke lie usake adhikaar par vishvaas karate hain. : लाल बहादुर शास्त्री

उसकी जाति, रंग या नस्ल जो भी हो, हम एक व्यक्ति के रूप में मनुष्य की गरिमा में और उसके बेहतर, संपूर्ण और समृद्ध जीवन के लिए उसके अधिकार पर विश्वास करते हैं। : Usakee jaati, rang ya nasl jo bhee ho, ham ek vyakti ke roop mein manushy kee garima mein aur usake behatar, sampoorn aur samrddh jeevan ke lie usake adhikaar par vishvaas karate hain. - लाल बहादुर शास्त्री

हर राष्ट्र के जीवन में एक समय आता है जब वह इतिहास के क्रॉस-रोड पर खड़ा होता है और उसे चुनना होता है कि किस रास्ते पर जाना है। लेकिन हमारे लिए कोई कठिनाई या झिझक की आवश्यकता नहीं है, कोई दाईं या बाईं ओर नहीं है। हमारा रास्ता सीधा और स्पष्ट है – सभी के लिए स्वतंत्रता और समृद्धि के साथ-साथ एक समाजवादी लोकतंत्र का निर्माण, और विश्व के सभी देशों के साथ शांति और दोस्ती - har raashtr ke jeevan mein ek samay aata hai jab vah itihaas ke kros-rod par khada hota hai aur use chunana hota hai ki kis raaste par jaana hai.] lekin hamaare lie koee kathinaee ya jhijhak kee aavashyakata nahin hai, kisee bhee taraph ya baeen or nahin hai. hamaara raasta seedha aur spasht hai - sabhee ke lie svatantrata aur samrddhi ke saath-saath ek samaajavaadee lokatantr ka nirmaan, aur vishv ke sabhee deshon ke saath shaanti aur dostee. : लाल बहादुर शास्त्री

हर राष्ट्र के जीवन में एक समय आता है जब वह इतिहास के क्रॉस-रोड पर खड़ा होता है और उसे चुनना होता है कि किस रास्ते पर जाना है। लेकिन हमारे लिए कोई कठिनाई या झिझक की आवश्यकता नहीं है, कोई दाईं या बाईं ओर नहीं है। हमारा रास्ता सीधा और स्पष्ट है – सभी के लिए स्वतंत्रता और समृद्धि के साथ-साथ एक समाजवादी लोकतंत्र का निर्माण, और विश्व के सभी देशों के साथ शांति और दोस्ती। : Har raashtr ke jeevan mein ek samay aata hai jab vah itihaas ke kros-rod par khada hota hai aur use chunana hota hai ki kis raaste par jaana hai.] lekin hamaare lie koee kathinaee ya jhijhak kee aavashyakata nahin hai, kisee bhee taraph ya baeen or nahin hai. hamaara raasta seedha aur spasht hai - sabhee ke lie svatantrata aur samrddhi ke saath-saath ek samaajavaadee lokatantr ka nirmaan, aur vishv ke sabhee deshon ke saath shaanti aur dostee. - लाल बहादुर शास्त्री

यदि पाकिस्तान का हमारे देश के किसी भी हिस्से को हड़पने का इरादा है, तो उसे नए सिरे से सोचना चाहिए। मैं स्पष्ट रूप से कहना चाहता हूँ कि बल का बल से सामना होगा और हमारे खिलाफ़ आक्रामकता कभी भी सफ़ल नहीं होने दी जायेगी - yadi paakistaan ka hamaare desh ke kisee bhee hisse ko hadapane ka iraada hai, to use nae sire se sochana chaahie. main spasht roop se kahana chaahata hoon ki bal ka bal se saamana hoga aur hamaare khilaaf aakraamakata kabhee bhee safal nahin hone vaalee hogee.) : लाल बहादुर शास्त्री

यदि पाकिस्तान का हमारे देश के किसी भी हिस्से को हड़पने का इरादा है, तो उसे नए सिरे से सोचना चाहिए। मैं स्पष्ट रूप से कहना चाहता हूँ कि बल का बल से सामना होगा और हमारे खिलाफ़ आक्रामकता कभी भी सफ़ल नहीं होने दी जायेगी। : Yadi paakistaan ka hamaare desh ke kisee bhee hisse ko hadapane ka iraada hai, to use nae sire se sochana chaahie. main spasht roop se kahana chaahata hoon ki bal ka bal se saamana hoga aur hamaare khilaaf aakraamakata kabhee bhee safal nahin hone vaalee hogee.) - लाल बहादुर शास्त्री

हम उपनिवेशवाद और साम्राज्यवाद के अंत के लिए पूर्ण समर्थन देना अपना नैतिक कर्तव्य समझेंगे, ताकि हर जगह लोग अपने भाग्यनिर्माण के लिए स्वतंत्र हों - ham upaniveshavaad aur saamraajyavaad ke ant ke lie poorn samarthan dete hain apanee naitikata ko samajhenge, taaki har jagah log apane bhaagy prograaming ke svatantr roop se hon. : लाल बहादुर शास्त्री

हम उपनिवेशवाद और साम्राज्यवाद के अंत के लिए पूर्ण समर्थन देना अपना नैतिक कर्तव्य समझेंगे, ताकि हर जगह लोग अपने भाग्यनिर्माण के लिए स्वतंत्र हों। : Ham upaniveshavaad aur saamraajyavaad ke ant ke lie poorn samarthan dete hain apanee naitikata ko samajhenge, taaki har jagah log apane bhaagy prograaming ke svatantr roop se hon. - लाल बहादुर शास्त्री

हम सभी को अपने – अपने क्षेत्रों में उसी समर्पण, उसी उत्साह और उसी संकल्प तथा उसी भावना के साथ काम करना होगा जो रणभूमि में एक योद्धा को प्रेरित और उत्साहित करती है। और यह सिर्फ बोलना नहीं है, बल्कि वास्तविकता में कर के दिखाना है - ham sabhee ko apane - apane kshetron mein samaanaprintan, samaan utsaah aur usee sankalp aur usee bhaavana ke saath kaam karana hoga jo ranabhoomi mein ek spenish ko prerit aur utsaahit karata hai. aur yah sirph bolana nahin hai, balki vaastavikata mein kar ke dikhaana hai. : लाल बहादुर शास्त्री

हम सभी को अपने – अपने क्षेत्रों में उसी समर्पण, उसी उत्साह और उसी संकल्प तथा उसी भावना के साथ काम करना होगा जो रणभूमि में एक योद्धा को प्रेरित और उत्साहित करती है। और यह सिर्फ बोलना नहीं है, बल्कि वास्तविकता में कर के दिखाना है। : Ham sabhee ko apane - apane kshetron mein samaanaprintan, samaan utsaah aur usee sankalp aur usee bhaavana ke saath kaam karana hoga jo ranabhoomi mein ek spenish ko prerit aur utsaahit karata hai. aur yah sirph bolana nahin hai, balki vaastavikata mein kar ke dikhaana hai. - लाल बहादुर शास्त्री