जीवन ऐसा कुछ नहीं है जिसके प्रति बहुत गंभीर रहा जाए। जीवन तुम्हारे हाथों में खेलने के लिए एक गेंद है। गेंद को पकड़े मत रहो - jeevan esa kuchh nahi hai jiske prati bahut gambheer raha jaaye. jeevna tumhare haathon mein khelne ke liye ek gend hai. gend ko pakde mat raho. : श्री श्री रविशंकर

जीवन ऐसा कुछ नहीं है जिसके प्रति बहुत गंभीर रहा जाए। जीवन तुम्हारे हाथों में खेलने के लिए एक गेंद है। गेंद को पकड़े मत रहो। : Jeevan esa kuchh nahi hai jiske prati bahut gambheer raha jaaye. jeevna tumhare haathon mein khelne ke liye ek gend hai. gend ko pakde mat raho. - श्री श्री रविशंकर

“दूसरों को सुनो ; फिर भी मत सुनो . अगर तुम्हारा दिमाग उनकी समस्याओं में उलझ जाएगा, ना सिर्फ वो दुखी होंगे , बल्कि तुम भी दुखी हो जओगे|” - doosro ki suno, fir bhi mat suno, agar tumhara dimaag unki samasyaon me ulajh jaayega. na sirf wo dukhi honge balkitum bhi dukhi ho jaaoge. : श्री श्री रविशंकर

“दूसरों को सुनो ; फिर भी मत सुनो . अगर तुम्हारा दिमाग उनकी समस्याओं में उलझ जाएगा, ना सिर्फ वो दुखी होंगे , बल्कि तुम भी दुखी हो जओगे|” : Doosro ki suno, fir bhi mat suno, agar tumhara dimaag unki samasyaon me ulajh jaayega. na sirf wo dukhi honge balkitum bhi dukhi ho jaaoge. - श्री श्री रविशंकर