जैसे कोरे कागज पर ही पत्र लिखे जा सकते हैं, लिखे हुए पर नहीं, उसी प्रकार निर्मल अंत:करण पर ही योग की शिक्षा और साधना अंकित हो सकती है - jaise kore kagaj par hi patra likhe ja sak, likhe hue ke oopar nahi, usi prakar nirmal antahkaran par hi yoga ki shisksha aur sadhna ankit ho sakti hai. : प्रज्ञा सुभाषित

जैसे कोरे कागज पर ही पत्र लिखे जा सकते हैं, लिखे हुए पर नहीं, उसी प्रकार निर्मल अंत:करण पर ही योग की शिक्षा और साधना अंकित हो सकती है। : Jaise kore kagaj par hi patra likhe ja sak, likhe hue ke oopar nahi, usi prakar nirmal antahkaran par hi yoga ki shisksha aur sadhna ankit ho sakti hai. - प्रज्ञा सुभाषित

उस सर्वव्यापक ईश्वर को योग द्वारा जान लेने पर हृदय की अविद्यारुपी गांठ कट जाती है, सभी प्रकार के संशय दूर हो जाते हैं और व्यक्ति भविष्य में पाप नहीं करता - us sarvavyaapak ishwar ko yoga dwara jaan lene par hridaya ki avidyaroopi ganth kat jaati hai. sabh prakar ke sanshay door ho jate hain vyakti bhavishya me koi paap nahi karta. : महर्षि दयानंद सरस्वती

उस सर्वव्यापक ईश्वर को योग द्वारा जान लेने पर हृदय की अविद्यारुपी गांठ कट जाती है, सभी प्रकार के संशय दूर हो जाते हैं और व्यक्ति भविष्य में पाप नहीं करता। : Us sarvavyaapak ishwar ko yoga dwara jaan lene par hridaya ki avidyaroopi ganth kat jaati hai. sabh prakar ke sanshay door ho jate hain vyakti bhavishya me koi paap nahi karta. - महर्षि दयानंद सरस्वती