प्यार सब्र रखता है और कृपा करता है। प्यार जलन नहीं रखता, डींगें नहीं मारता, घमंड से नहीं फूलता, गलत व्यवहार नहीं करता, सिर्फ अपने फायदे की नहीं सोचता, भड़क नहीं उठता। यह चोट का हिसाब नहीं रखता। यह बुराई से खुश नहीं होता, बल्कि सच्चाई से खुशी पाता है। यह सबकुछ बरदाश्त कर लेता है, सब बातों पर यकीन करता है, सब बातों की आशा रखता है, सबकुछ धीरज से सह लेता है। प्यार कभी नहीं मिटता - pyaar sabra rakhta hai aur kripa karta hai. pyaar jalan nahi rakhta , deenge nahi maarta , ghamand se nahi foolta, galat vyavhaar nahi karta, sirf apne faayde ki nahi sochta, bhadak nhi uthta. yah chot ka hisaab nahi rakhta , buraai se dukhi nahi hota aur sachchai se khush hota hai. : अज्ञात

प्यार सब्र रखता है और कृपा करता है। प्यार जलन नहीं रखता, डींगें नहीं मारता, घमंड से नहीं फूलता, गलत व्यवहार नहीं करता, सिर्फ अपने फायदे की नहीं सोचता, भड़क नहीं उठता। यह चोट का हिसाब नहीं रखता। यह बुराई से खुश नहीं होता, बल्कि सच्चाई से खुशी पाता है। यह सबकुछ बरदाश्त कर लेता है, सब बातों पर यकीन करता है, सब बातों की आशा रखता है, सबकुछ धीरज से सह लेता है। प्यार कभी नहीं मिटता। : Pyaar sabra rakhta hai aur kripa karta hai. pyaar jalan nahi rakhta , deenge nahi maarta , ghamand se nahi foolta, galat vyavhaar nahi karta, sirf apne faayde ki nahi sochta, bhadak nhi uthta. yah chot ka hisaab nahi rakhta , buraai se dukhi nahi hota aur sachchai se khush hota hai. - अज्ञात

हम किसी भी चीज को पूर्णतः ठीक तरीके से परिभाषित नहीं कर सकते। अगर ऐसा करने की कोशिश करें, तो हम भी उसी वैचारिक पक्षाघात के शिकार हो जाएँगे जिसके शिकार दार्शनिक होते हैं - hum kisi bhi cheez ko poornataya theek tareeke se paribhashit nahi kar sakte. agar humesa karne ki koshish karein to hum bhi us vaicharik pakshaghaat ke shikar ho jaayenge jiske darshnik ho jaate hain. : अज्ञात

हम किसी भी चीज को पूर्णतः ठीक तरीके से परिभाषित नहीं कर सकते। अगर ऐसा करने की कोशिश करें, तो हम भी उसी वैचारिक पक्षाघात के शिकार हो जाएँगे जिसके शिकार दार्शनिक होते हैं। : Hum kisi bhi cheez ko poornataya theek tareeke se paribhashit nahi kar sakte. agar humesa karne ki koshish karein to hum bhi us vaicharik pakshaghaat ke shikar ho jaayenge jiske darshnik ho jaate hain. - अज्ञात