आज हमारे अन्दर बस एक ही इच्छा होनी चाहिए, मरने की इच्छा ताकि भारत जी सके! एक शहीद की मौत मरने की इच्छा ताकि स्वतंत्रता का मार्ग शहीदों के खून से प्रशस्त हो सके. - aaj hamare andar bas ek ichcha honi chahiye, marne ki ichchha taaki bharat jee sake. ek shaheed ki maut marne ki ichchha taaki swatantrata ka marg shahidon ke khoon se prashast ho sake. : सुभाष चन्द्र बोस

आज हमारे अन्दर बस एक ही इच्छा होनी चाहिए, मरने की इच्छा ताकि भारत जी सके! एक शहीद की मौत मरने की इच्छा ताकि स्वतंत्रता का मार्ग शहीदों के खून से प्रशस्त हो सके. : Aaj hamare andar bas ek ichcha honi chahiye, marne ki ichchha taaki bharat jee sake. ek shaheed ki maut marne ki ichchha taaki swatantrata ka marg shahidon ke khoon se prashast ho sake. - सुभाष चन्द्र बोस

मेरे मन में कोई संदेह नहीं है कि हमारे देश की प्रमुख समस्याएं गरीबी,अशिक्षा, बीमारी, कुशल उत्पादन एवं वितरण सिर्फ समाजवादी तरीके से ही की जा सकती है - mere man mein koi sandeh nahi hai ki hamare desh ki pramukh samasyae gaeebi, ashiksha, beemari, kushal utpadan, evam vitaran sirf samajvadi tareeke se ki jaa sakti hain. : सुभाष चन्द्र बोस

मेरे मन में कोई संदेह नहीं है कि हमारे देश की प्रमुख समस्याएं गरीबी,अशिक्षा, बीमारी, कुशल उत्पादन एवं वितरण सिर्फ समाजवादी तरीके से ही की जा सकती है। : Mere man mein koi sandeh nahi hai ki hamare desh ki pramukh samasyae gaeebi, ashiksha, beemari, kushal utpadan, evam vitaran sirf samajvadi tareeke se ki jaa sakti hain. - सुभाष चन्द्र बोस

जब हम खड़े हों, तब आज़ाद हिन्द फौज को एक ग्रेनाइट की दीवार के समान होना होगा; जब हम आगे बढ़ें, तब आज़ाद हिन्द फौज को एक स्ट्रीमरोलर के समान होना होगा - jab hum khade ho tab aazad hind fauz ko ek granite ki deewar ke samaan hogi. jab hum aage badhe to aajad hind fauz ko ek streamroller ke saman hona hoga. : सुभाष चन्द्र बोस

जब हम खड़े हों, तब आज़ाद हिन्द फौज को एक ग्रेनाइट की दीवार के समान होना होगा; जब हम आगे बढ़ें, तब आज़ाद हिन्द फौज को एक स्ट्रीमरोलर के समान होना होगा। : Jab hum khade ho tab aazad hind fauz ko ek granite ki deewar ke samaan hogi. jab hum aage badhe to aajad hind fauz ko ek streamroller ke saman hona hoga. - सुभाष चन्द्र बोस