मैं यह नहीं कहूँगा कि मैं 1000 बार असफल हुआ, मैं यह कहूँगा कि ऐसे 1000 रास्ते हैं जो आपको सफलता से दूर ले जाते हैं - main yah nahi kahunga ki 1000 baar asafal hua, main yah kahunga ki aise 1000 raaste hain jo aapko safalta se door le jaate hain. : थॉमस अल्वा एडिसन

मैं यह नहीं कहूँगा कि मैं 1000 बार असफल हुआ, मैं यह कहूँगा कि ऐसे 1000 रास्ते हैं जो आपको सफलता से दूर ले जाते हैं। : Main yah nahi kahunga ki 1000 baar asafal hua, main yah kahunga ki aise 1000 raaste hain jo aapko safalta se door le jaate hain. - थॉमस अल्वा एडिसन

महान लोग आईडिया पर बात करते हैं, साधारण लोग रोजमर्रा घटनाक्रम की बात करते हैं, और निम्न स्तर के लोग दूसरों के बारे में बात करते हैं - mahaan log idea par baat karte hain, sadharan log rojmarra ghatnakram ki baat karte hain, aur nimn star ke log doosaron ke bare mein baat karte hain. : एलेनोर रूजवेल्ट

महान लोग आईडिया पर बात करते हैं, साधारण लोग रोजमर्रा घटनाक्रम की बात करते हैं, और निम्न स्तर के लोग दूसरों के बारे में बात करते हैं। : Mahaan log idea par baat karte hain, sadharan log rojmarra ghatnakram ki baat karte hain, aur nimn star ke log doosaron ke bare mein baat karte hain. - एलेनोर रूजवेल्ट

अंगूर को जब तक न पेरो वो मीठी मदिरा नही बनती, वैसे ही मनुष्य जब तक कष्ट मे पिसता नही, तब तक उसके अन्दर की सर्वौत्तम प्रतिभा बाहर नही आती - angoorko jab tak pairo tab tak wah meethi madira nahi banti, waise hi manushya jab tak kashta mein nahi pistaa tab tak uske andar ki sarvottam pratibha bahar nahi aati. : छत्रपति शिवाजी

अंगूर को जब तक न पेरो वो मीठी मदिरा नही बनती, वैसे ही मनुष्य जब तक कष्ट मे पिसता नही, तब तक उसके अन्दर की सर्वौत्तम प्रतिभा बाहर नही आती। : Angoorko jab tak pairo tab tak wah meethi madira nahi banti, waise hi manushya jab tak kashta mein nahi pistaa tab tak uske andar ki sarvottam pratibha bahar nahi aati. - छत्रपति शिवाजी

समाज में अनपढ़ लोग हैं ये हमारे समाज की समस्या नही है। लेकिन जब समाज के पढ़े लिखे लोग भी गलत बातों का समर्थन करने लगते हैं और गलत को सही दिखाने के लिए अपने बुद्धि का उपयोग करते हैं, यही हमारे समाज की समस्या है - samaaj mein anapadh log hain ye hamaare samaaj kee samasya nahin hai. lekin jab samaaj ke padhe likhe log bhee galat cheejon ka samarthan karane lagate hain aur galat ko sahee dikhaane ke lie apanee buddhi ka upayog karate hain, yahee hamaare samaaj kee samasya hai. : डॉ॰ बी॰ आर॰ अम्बेडकर

समाज में अनपढ़ लोग हैं ये हमारे समाज की समस्या नही है। लेकिन जब समाज के पढ़े लिखे लोग भी गलत बातों का समर्थन करने लगते हैं और गलत को सही दिखाने के लिए अपने बुद्धि का उपयोग करते हैं, यही हमारे समाज की समस्या है। : Samaaj mein anapadh log hain ye hamaare samaaj kee samasya nahin hai. lekin jab samaaj ke padhe likhe log bhee galat cheejon ka samarthan karane lagate hain aur galat ko sahee dikhaane ke lie apanee buddhi ka upayog karate hain, yahee hamaare samaaj kee samasya hai. - डॉ॰ बी॰ आर॰ अम्बेडकर

जो धर्म जन्म से एक को श्रेष्ठ और दूसरे को नीच बताये वह धर्म नहीं, गुलाम बनाए रखने का षड़यंत्र है - jo dharm jayamm se ek ko shrey aur doosare ko neech bata vah dharm nahin, gulaam banae rakhane ka shadayantr hai. : डॉ॰ बी॰ आर॰ अम्बेडकर

जो धर्म जन्म से एक को श्रेष्ठ और दूसरे को नीच बताये वह धर्म नहीं, गुलाम बनाए रखने का षड़यंत्र है। : Jo dharm jayamm se ek ko shrey aur doosare ko neech bata vah dharm nahin, gulaam banae rakhane ka shadayantr hai. - डॉ॰ बी॰ आर॰ अम्बेडकर