अतीत पे धयान मत दो, भविष्य के बारे में मत सोचो, अपने मन को वर्तमान क्षण पे केन्द्रित करो - ateet pe dhyan mat do, bhavishya ke baare me mat socho aona saara dhyan vartman par kendrit karo. : गौतम बुद्ध

अतीत पे धयान मत दो, भविष्य के बारे में मत सोचो, अपने मन को वर्तमान क्षण पे केन्द्रित करो। : Ateet pe dhyan mat do, bhavishya ke baare me mat socho aona saara dhyan vartman par kendrit karo. - गौतम बुद्ध

जो तर्क को अनसुना कर देते हैं, वह कट्टर हैं | जो तर्क ही नहीं कर सकते, वह मुर्ख हैं और जो तर्क करने का साहस ही नहीं दिखा सकते, वह गुलाम हैं - jo tak ko ansuna kar deta hain, ve kattar hain. jo tark hi nahi kar sakte, ve moorkh hain aur jo tark karne ka sahas nahi dikhate, ve gulaam. : विलियम ड्रूरंट

जो तर्क को अनसुना कर देते हैं, वह कट्टर हैं | जो तर्क ही नहीं कर सकते, वह मुर्ख हैं और जो तर्क करने का साहस ही नहीं दिखा सकते, वह गुलाम हैं। : Jo tak ko ansuna kar deta hain, ve kattar hain. jo tark hi nahi kar sakte, ve moorkh hain aur jo tark karne ka sahas nahi dikhate, ve gulaam. - विलियम ड्रूरंट

समाज में अनपढ़ लोग हैं ये हमारे समाज की समस्या नही है। लेकिन जब समाज के पढ़े लिखे लोग भी गलत बातों का समर्थन करने लगते हैं और गलत को सही दिखाने के लिए अपने बुद्धि का उपयोग करते हैं, यही हमारे समाज की समस्या है - samaaj mein anapadh log hain ye hamaare samaaj kee samasya nahin hai. lekin jab samaaj ke padhe likhe log bhee galat cheejon ka samarthan karane lagate hain aur galat ko sahee dikhaane ke lie apanee buddhi ka upayog karate hain, yahee hamaare samaaj kee samasya hai. : डॉ॰ बी॰ आर॰ अम्बेडकर

समाज में अनपढ़ लोग हैं ये हमारे समाज की समस्या नही है। लेकिन जब समाज के पढ़े लिखे लोग भी गलत बातों का समर्थन करने लगते हैं और गलत को सही दिखाने के लिए अपने बुद्धि का उपयोग करते हैं, यही हमारे समाज की समस्या है। : Samaaj mein anapadh log hain ye hamaare samaaj kee samasya nahin hai. lekin jab samaaj ke padhe likhe log bhee galat cheejon ka samarthan karane lagate hain aur galat ko sahee dikhaane ke lie apanee buddhi ka upayog karate hain, yahee hamaare samaaj kee samasya hai. - डॉ॰ बी॰ आर॰ अम्बेडकर

सत्य के मार्ग पर चलने हेतु बुरे का त्याग अवश्यक है, चरित्र का सुधार आवश्यक है - saty ke maarg par chalane ke lie bure ka tyaag avagat hai, charitr ka sudhaar aavashyak hai. : सरदार वल्लभ भाई पटेल

सत्य के मार्ग पर चलने हेतु बुरे का त्याग अवश्यक है, चरित्र का सुधार आवश्यक है। : Saty ke maarg par chalane ke lie bure ka tyaag avagat hai, charitr ka sudhaar aavashyak hai. - सरदार वल्लभ भाई पटेल

जीतने की संकल्प शक्ति, सफल होने की इच्छा और अपने अंदर मौजूद क्षमताओं के उच्चतम् स्तर तक पहुंचने की तीव्र अभिलाषा, ये ऐसी चाबियां हैं जो व्यक्तिगत उत्कृष्टता के बंद दरवाजे खोल देती है - jeetne ki sankalp shakti, safal hone ki ichha aur apne andar mauzood kshamtao ke uchchatam star tak pahunchne kee teevra abhilasha, ye esi chaabiyan hain ji vyakti ki utkrishtata ke band darwaje khol deti hain. : कन्फ्युशियस

जीतने की संकल्प शक्ति, सफल होने की इच्छा और अपने अंदर मौजूद क्षमताओं के उच्चतम् स्तर तक पहुंचने की तीव्र अभिलाषा, ये ऐसी चाबियां हैं जो व्यक्तिगत उत्कृष्टता के बंद दरवाजे खोल देती है। : Jeetne ki sankalp shakti, safal hone ki ichha aur apne andar mauzood kshamtao ke uchchatam star tak pahunchne kee teevra abhilasha, ye esi chaabiyan hain ji vyakti ki utkrishtata ke band darwaje khol deti hain. - कन्फ्युशियस

जीवन में कठिनाइयाँ हमे बर्बाद करने नहीं आती है, बल्कि यह हमारी छुपी हुई सामर्थ्य और शक्तियों को बाहर निकलने में हमारी मदद करने आती है, कठिनाइयों को यह जान लेने दो की आप उससे भी ज्यादा कठिन हो - kathinaiya hume barbad karne nahi aati balki ye hamari chhupi hui samarthya aur shaktiyon ko bahar nikalne me hamari madad karne aati hain. kathinaaiyo ko ye jaan lene do ki aap ussse bhi jyada kathin ho : ए पी जे अब्दुल कलाम

जीवन में कठिनाइयाँ हमे बर्बाद करने नहीं आती है, बल्कि यह हमारी छुपी हुई सामर्थ्य और शक्तियों को बाहर निकलने में हमारी मदद करने आती है, कठिनाइयों को यह जान लेने दो की आप उससे भी ज्यादा कठिन हो। : Kathinaiya hume barbad karne nahi aati balki ye hamari chhupi hui samarthya aur shaktiyon ko bahar nikalne me hamari madad karne aati hain. kathinaaiyo ko ye jaan lene do ki aap ussse bhi jyada kathin ho - ए पी जे अब्दुल कलाम

बारिश की दौरान सारे पक्षी आश्रय की खोज करते है लेकिन बाज़ बादलों के ऊपर उडकर बारिश को ही अवॉयड कर देते है। समस्याएँ कॉमन है, लेकिन आपका एटीट्यूड इनमे डिफरेंस पैदा करता है - baarish ke dauran sare pakshi aashray ki khoj karte hain lekin baaj badalon ke oopar udta hai aur barish ko avoid kar deta hai. theek usi prakar samasyae common hain aapka attitude inme difference paida karta hai. : ए पी जे अब्दुल कलाम

बारिश की दौरान सारे पक्षी आश्रय की खोज करते है लेकिन बाज़ बादलों के ऊपर उडकर बारिश को ही अवॉयड कर देते है। समस्याएँ कॉमन है, लेकिन आपका एटीट्यूड इनमे डिफरेंस पैदा करता है। : Baarish ke dauran sare pakshi aashray ki khoj karte hain lekin baaj badalon ke oopar udta hai aur barish ko avoid kar deta hai. theek usi prakar samasyae common hain aapka attitude inme difference paida karta hai. - ए पी जे अब्दुल कलाम

ध्यान दीजिये कि सबसे कठोर पेड़ सबसे आसानी से टूट जाते हैं, जबकि, बांस या विलो हवा के साथ मुड़कर बच जाते है - dhyan deejiye ki sabse kathor ped sabse aasani se toot jate hain, jabki baans ya willow hawaa ke sath mudkar bach jaate hain . : ब्रूस ली

ध्यान दीजिये कि सबसे कठोर पेड़ सबसे आसानी से टूट जाते हैं, जबकि, बांस या विलो हवा के साथ मुड़कर बच जाते है। : Dhyan deejiye ki sabse kathor ped sabse aasani se toot jate hain, jabki baans ya willow hawaa ke sath mudkar bach jaate hain . - ब्रूस ली