दुनिया में अधिकांश लोग इसलिए असफल हो जाते हैं क्योंकि विपरीत परिस्थितियां आने पर उनका साहस टूट जाता है और वह भयभीत हो जाते हैं - duniya mein adhikaansh log isalie asaphal ho jaate hain kyonki vipareet paristhitiyaan aane par unaka saahas toot jaata hai aur vah bhayabheet ho jaate hain. : स्वामी विवेकानन्द

दुनिया में अधिकांश लोग इसलिए असफल हो जाते हैं क्योंकि विपरीत परिस्थितियां आने पर उनका साहस टूट जाता है और वह भयभीत हो जाते हैं। : Duniya mein adhikaansh log isalie asaphal ho jaate hain kyonki vipareet paristhitiyaan aane par unaka saahas toot jaata hai aur vah bhayabheet ho jaate hain. - स्वामी विवेकानन्द

अपनी वर्तमान अवस्था के जिम्मेदार हम ही हैं, और जो कुछ भी हम होना चाहते हैं, उसकी शक्ति भी हमीं में है। यदि हमारी वर्तमान अवस्था हमारे ही पूर्व कर्मों का फल है, तो यह निश्चित है कि जो कुछ हम भविष्य में होना चाहते हैं, वह हमारे वर्तमान कार्यों द्वारा ही निर्धारित किया जा सकता है - apanee vartamaan avastha ke jimmedaar ham hee hain, aur jo kuchh bhee ham hona chaahate hain, usakee shakti bhee hameen mein hai. yadi hamaaree vartamaan avastha hamaare hee poorv karmon ka phal hai, to yah nishchit hai ki jo kuchh ham bhavishy mein hona chaahate hain, vah hamaare vartamaan kaaryon dvaara hee nirdhaarit kiya ja sakata hai. : स्वामी विवेकानन्द

अपनी वर्तमान अवस्था के जिम्मेदार हम ही हैं, और जो कुछ भी हम होना चाहते हैं, उसकी शक्ति भी हमीं में है। यदि हमारी वर्तमान अवस्था हमारे ही पूर्व कर्मों का फल है, तो यह निश्चित है कि जो कुछ हम भविष्य में होना चाहते हैं, वह हमारे वर्तमान कार्यों द्वारा ही निर्धारित किया जा सकता है। : Apanee vartamaan avastha ke jimmedaar ham hee hain, aur jo kuchh bhee ham hona chaahate hain, usakee shakti bhee hameen mein hai. yadi hamaaree vartamaan avastha hamaare hee poorv karmon ka phal hai, to yah nishchit hai ki jo kuchh ham bhavishy mein hona chaahate hain, vah hamaare vartamaan kaaryon dvaara hee nirdhaarit kiya ja sakata hai. - स्वामी विवेकानन्द

यदि हमें गौरव से जीने का भाव जगाना है, अपने अंतर्मन में राष्ट्रभक्ति के बीज को पल्लवित करना है तो राष्ट्रीय तिथियों का आश्रय लेना होगा - agar hamen gaurav se jeene ka bhaav jagaana hai, apane antarman mein raashtrabhakti ke beej ko pallavit karana hai to raashtreey tithiyon ka aashray lena hoga. : स्वामी विवेकानन्द

यदि हमें गौरव से जीने का भाव जगाना है, अपने अंतर्मन में राष्ट्रभक्ति के बीज को पल्लवित करना है तो राष्ट्रीय तिथियों का आश्रय लेना होगा। : Agar hamen gaurav se jeene ka bhaav jagaana hai, apane antarman mein raashtrabhakti ke beej ko pallavit karana hai to raashtreey tithiyon ka aashray lena hoga. - स्वामी विवेकानन्द

बाहर की दुनिया बिलकुल वैसी है, जैसा कि हम अंदर से सोचते हैं। हमारे विचार ही चीजों को सुंदर और बदसूरत बनाते हैं। पूरा संसार हमारे अंदर समाया हुआ है, बस जरूरत है चीजों को सही रोशनी में रखकर देखने की - baahar kee duniya bilakul vaisee hai, jaisa ki ham andar se sochate hain. hamaare vichaar hee cheejon ko sundar aur badasoorat banaate hain. poora sansaar hamaare andar samaaya hua hai, bas jaroorat hai cheejon ko sahee roshanee mein rakhakar dekhane kee. : स्वामी विवेकानन्द

बाहर की दुनिया बिलकुल वैसी है, जैसा कि हम अंदर से सोचते हैं। हमारे विचार ही चीजों को सुंदर और बदसूरत बनाते हैं। पूरा संसार हमारे अंदर समाया हुआ है, बस जरूरत है चीजों को सही रोशनी में रखकर देखने की। : Baahar kee duniya bilakul vaisee hai, jaisa ki ham andar se sochate hain. hamaare vichaar hee cheejon ko sundar aur badasoorat banaate hain. poora sansaar hamaare andar samaaya hua hai, bas jaroorat hai cheejon ko sahee roshanee mein rakhakar dekhane kee. - स्वामी विवेकानन्द

जब कभी भारत के सच्चे इतिहास का पता लगाया जायेगा। तब यह संदेश प्रमाणित होगा कि धर्म के समान ही विज्ञान, संगीत, साहित्य, गणित, कला आदि में भी भारत समग्र संसार का आदि गुरु रहा है - jab kabhee bhaarat ke sachche itihaas ka pata lagaaya jaega. tab yah sandesh pramaanit hoga ki dharm ke samaan hee vigyaan, sangeet, saahity, ganit, kala aadi mein bhee bhaarat samagr sansaar ka aadi guru raha hai.] : स्वामी विवेकानन्द

जब कभी भारत के सच्चे इतिहास का पता लगाया जायेगा। तब यह संदेश प्रमाणित होगा कि धर्म के समान ही विज्ञान, संगीत, साहित्य, गणित, कला आदि में भी भारत समग्र संसार का आदि गुरु रहा है। : Jab kabhee bhaarat ke sachche itihaas ka pata lagaaya jaega. tab yah sandesh pramaanit hoga ki dharm ke samaan hee vigyaan, sangeet, saahity, ganit, kala aadi mein bhee bhaarat samagr sansaar ka aadi guru raha hai.] - स्वामी विवेकानन्द

कर्म योग का रहस्य है कि बिना किसी फल की इच्छा के कर्म करना है, यह भगवान कृष्ण द्वारा श्रीमद्भगवद्गीता में बताया गया है - karm yog ka rahasy hai ki bina kisee phal kee ichchha ke karm karana hai, yah bhagavaan krshn dvaara shreemadbenavadgeeta mein gaya hai. : स्वामी विवेकानन्द

कर्म योग का रहस्य है कि बिना किसी फल की इच्छा के कर्म करना है, यह भगवान कृष्ण द्वारा श्रीमद्भगवद्गीता में बताया गया है। : Karm yog ka rahasy hai ki bina kisee phal kee ichchha ke karm karana hai, yah bhagavaan krshn dvaara shreemadbenavadgeeta mein gaya hai. - स्वामी विवेकानन्द

जब तक मनुष्य के जीवन में सुख – दुख नहीं आएगा तब तक मनुष्य को यह एहसास कैसे होगा कि जीवन में क्या सही है? और क्या गलत है? - jab tak manushy ke jeevan mein sukh - dukh nahin hoga tab tak manushy ko yah ehasaas hoga ki jeevan kaise hoga? aur kya galat hai? : स्वामी विवेकानन्द

जब तक मनुष्य के जीवन में सुख – दुख नहीं आएगा तब तक मनुष्य को यह एहसास कैसे होगा कि जीवन में क्या सही है? और क्या गलत है? : Jab tak manushy ke jeevan mein sukh - dukh nahin hoga tab tak manushy ko yah ehasaas hoga ki jeevan kaise hoga? aur kya galat hai? - स्वामी विवेकानन्द