सत्य के मार्ग पर चलने हेतु बुरे का त्याग अवश्यक है, चरित्र का सुधार आवश्यक है - saty ke maarg par chalane ke lie bure ka tyaag avagat hai, charitr ka sudhaar aavashyak hai. : सरदार वल्लभ भाई पटेल

सत्य के मार्ग पर चलने हेतु बुरे का त्याग अवश्यक है, चरित्र का सुधार आवश्यक है। : Saty ke maarg par chalane ke lie bure ka tyaag avagat hai, charitr ka sudhaar aavashyak hai. - सरदार वल्लभ भाई पटेल

हमने यह महसूस किया है कि यदि हमने विभाजन स्वीकार नहीं किया तो भारत छोटे – छोटे टुकड़ों में विभाजित होकर विनष्ट हो जाएगा। कार्यालय में मेरे एक वर्ष के अनुभव से मुझे ज्ञात हुआ कि हम जिस रास्ते पर चल रहे थे वह हमें विनाश की ओर ले जा रहा था। ऐसा करने पर हमारे पास एक नहीं कई पाकिस्तान होते। हमारे प्रत्येक कार्यालय में एक पाकिस्तानी शाखा होती - hamane yah mahasoos kiya hai ki yadi hamane vibhaajan sveekaar nahin kiya to bhaarat chhote - chhote tukadon mein vibhaajit hokar vinasht ho jaega. kaaryaalay mein mere ek varsh ke anubhav se mujhe gyaat hua ki ham jis raaste par chal rahe the vah hamen vinaash kee or le ja raha tha. aisa karane par hamaare paas ek nahin kaee paakistaan hain. hamaare pratyek kaaryaalay mein ek paakistaanee shaakha hotee hai. : सरदार वल्लभ भाई पटेल

हमने यह महसूस किया है कि यदि हमने विभाजन स्वीकार नहीं किया तो भारत छोटे – छोटे टुकड़ों में विभाजित होकर विनष्ट हो जाएगा। कार्यालय में मेरे एक वर्ष के अनुभव से मुझे ज्ञात हुआ कि हम जिस रास्ते पर चल रहे थे वह हमें विनाश की ओर ले जा रहा था। ऐसा करने पर हमारे पास एक नहीं कई पाकिस्तान होते। हमारे प्रत्येक कार्यालय में एक पाकिस्तानी शाखा होती। : Hamane yah mahasoos kiya hai ki yadi hamane vibhaajan sveekaar nahin kiya to bhaarat chhote - chhote tukadon mein vibhaajit hokar vinasht ho jaega. kaaryaalay mein mere ek varsh ke anubhav se mujhe gyaat hua ki ham jis raaste par chal rahe the vah hamen vinaash kee or le ja raha tha. aisa karane par hamaare paas ek nahin kaee paakistaan hain. hamaare pratyek kaaryaalay mein ek paakistaanee shaakha hotee hai. - सरदार वल्लभ भाई पटेल

स्वतंत्र भारत में कोई भी भूख से नहीं मरेगा। अनाज निर्यात नहीं किया जायेगा। कपड़ों का आयात नहीं किया जाएगा। इसके नेता ना विदेशी भाषा का प्रयोग करेंगे ना किसी दूरस्थ स्थान, समुद्र स्तर से 7000 फुट ऊपर से शासन करेंगे। इसके सैन्य खर्च भारी नहीं होंगे, इसकी सेना अपने ही लोगों या किसी और की भूमि को अधीन नहीं करेगी। इसके सबसे अच्छे वेतन पाने वाले अधिकारी इसके सबसे कम वेतन पाने वाले सेवकों से बहुत ज्यादा नहीं कमाएंगे और यहाँ न्याय पाना ना खर्चीला होगा, ना कठिन होगा - svatantr bhaarat mein koee bhee bhookh se nahin marega. anaaj disk nahin kiya jaega. kapadon ka aayaat nahin kiya jaega. isake neta na videshee bhaasha ka prayog karenge na kisee doorasth sthaan, samudr tal se 7000 phut oopar se shaasan karenge. isake sainy kharch bhaaree nahin honge, isakee sena apane hee logon ya kisee aur kee bhoomi ko adheen nahin karegee. isake sabase achchhe vetan paane vaale adhikaaree isake sabase kam vetan paane vaale sevakon se bahut jyaada nahin kamaenge aur yahaan nyaay paana na kharcheela hoga, na kathin hoga. : सरदार वल्लभ भाई पटेल

स्वतंत्र भारत में कोई भी भूख से नहीं मरेगा। अनाज निर्यात नहीं किया जायेगा। कपड़ों का आयात नहीं किया जाएगा। इसके नेता ना विदेशी भाषा का प्रयोग करेंगे ना किसी दूरस्थ स्थान, समुद्र स्तर से 7000 फुट ऊपर से शासन करेंगे। इसके सैन्य खर्च भारी नहीं होंगे, इसकी सेना अपने ही लोगों या किसी और की भूमि को अधीन नहीं करेगी। इसके सबसे अच्छे वेतन पाने वाले अधिकारी इसके सबसे कम वेतन पाने वाले सेवकों से बहुत ज्यादा नहीं कमाएंगे और यहाँ न्याय पाना ना खर्चीला होगा, ना कठिन होगा। : Svatantr bhaarat mein koee bhee bhookh se nahin marega. anaaj disk nahin kiya jaega. kapadon ka aayaat nahin kiya jaega. isake neta na videshee bhaasha ka prayog karenge na kisee doorasth sthaan, samudr tal se 7000 phut oopar se shaasan karenge. isake sainy kharch bhaaree nahin honge, isakee sena apane hee logon ya kisee aur kee bhoomi ko adheen nahin karegee. isake sabase achchhe vetan paane vaale adhikaaree isake sabase kam vetan paane vaale sevakon se bahut jyaada nahin kamaenge aur yahaan nyaay paana na kharcheela hoga, na kathin hoga. - सरदार वल्लभ भाई पटेल

एकता के बिना जनशक्ति, शक्ति नहीं है। जब तक उसे ठीक तरह से सामंजस्य में ना लाया जाए और एकजुट ना किया जाए - ekata ke bina janashakti, shakti nahin hai. jab tak use theek tarah se saamanjasy mein na laaya jae aur ekajut na kiya jae. : सरदार वल्लभ भाई पटेल

एकता के बिना जनशक्ति, शक्ति नहीं है। जब तक उसे ठीक तरह से सामंजस्य में ना लाया जाए और एकजुट ना किया जाए। : Ekata ke bina janashakti, shakti nahin hai. jab tak use theek tarah se saamanjasy mein na laaya jae aur ekajut na kiya jae. - सरदार वल्लभ भाई पटेल

जीवन में जितना दुःख भोगना लिखा है उसे तो भोगना ही पड़ेगा तो फिर व्यर्थ में चिंता क्यू करना ? - jeevan mein jitana duhkh bhogana likha hai use to bhogana hee hoga to phir vyarth mein chinta kyoo karana? : सरदार वल्लभ भाई पटेल

जीवन में जितना दुःख भोगना लिखा है उसे तो भोगना ही पड़ेगा तो फिर व्यर्थ में चिंता क्यू करना ? : Jeevan mein jitana duhkh bhogana likha hai use to bhogana hee hoga to phir vyarth mein chinta kyoo karana? - सरदार वल्लभ भाई पटेल

दुःख उठाने के कारण प्राय: हममें कटुता आ जाती है, द्रष्टि संकुचित हो जाती है और हम स्वार्थी तथा दूसरों की कमियों के प्रति असहिष्णु बन जाते हैं - duhkh uthaane ke kaaran sambhaavana: hamamen katuta aa jaatee hai, drashti sankuchit ho jaatee hai aur ham svaarthee aur doosaron kee kamiyon ke prati asahishnu ban jaate hain. : सरदार वल्लभ भाई पटेल

दुःख उठाने के कारण प्राय: हममें कटुता आ जाती है, द्रष्टि संकुचित हो जाती है और हम स्वार्थी तथा दूसरों की कमियों के प्रति असहिष्णु बन जाते हैं। : Duhkh uthaane ke kaaran sambhaavana: hamamen katuta aa jaatee hai, drashti sankuchit ho jaatee hai aur ham svaarthee aur doosaron kee kamiyon ke prati asahishnu ban jaate hain. - सरदार वल्लभ भाई पटेल

सेवा करने वाले मनुष्य को विन्रमता सीखनी चाहिए, वर्दी पहन कर अभिमान नहीं, विनम्रता आनी चाहिए - seva karane vaale manushy ko vinramata seekhanee chaahie, vardee pahan kar abhimaan nahin, vinamrata se aanee chaahie. : सरदार वल्लभ भाई पटेल

सेवा करने वाले मनुष्य को विन्रमता सीखनी चाहिए, वर्दी पहन कर अभिमान नहीं, विनम्रता आनी चाहिए। : Seva karane vaale manushy ko vinramata seekhanee chaahie, vardee pahan kar abhimaan nahin, vinamrata se aanee chaahie. - सरदार वल्लभ भाई पटेल

सत्ताधीशों की सत्ता उनकी मृत्यु के साथ ही समाप्त हो जाती है, पर महान देशभक्तों की सत्ता मरने के बाद काम करती है, अतः देशभक्ति अर्थात् देश-सेवा में जो मिठास है, वह और किसी चीज में नहीं - sattaadheeshon kee satta unakee mrtyu ke saath hee samaapt ho jaatee hai, par mahaan deshabhakton kee satta marane ke baad kaam karatee hai, atah deshabhakti arthaat desh-seva mein jo mithaas hai, vah aur kisee cheej mein nahin। : सरदार वल्लभ भाई पटेल

सत्ताधीशों की सत्ता उनकी मृत्यु के साथ ही समाप्त हो जाती है, पर महान देशभक्तों की सत्ता मरने के बाद काम करती है, अतः देशभक्ति अर्थात् देश-सेवा में जो मिठास है, वह और किसी चीज में नहीं। : Sattaadheeshon kee satta unakee mrtyu ke saath hee samaapt ho jaatee hai, par mahaan deshabhakton kee satta marane ke baad kaam karatee hai, atah deshabhakti arthaat desh-seva mein jo mithaas hai, vah aur kisee cheej mein nahin। - सरदार वल्लभ भाई पटेल