जीवन में जितना दुःख भोगना लिखा है उसे तो भोगना ही पड़ेगा तो फिर व्यर्थ में चिंता क्यू करना ? - jeevan mein jitana duhkh bhogana likha hai use to bhogana hee hoga to phir vyarth mein chinta kyoo karana? : सरदार वल्लभ भाई पटेल

जीवन में जितना दुःख भोगना लिखा है उसे तो भोगना ही पड़ेगा तो फिर व्यर्थ में चिंता क्यू करना ? : Jeevan mein jitana duhkh bhogana likha hai use to bhogana hee hoga to phir vyarth mein chinta kyoo karana? - सरदार वल्लभ भाई पटेल

दुःख उठाने के कारण प्राय: हममें कटुता आ जाती है, द्रष्टि संकुचित हो जाती है और हम स्वार्थी तथा दूसरों की कमियों के प्रति असहिष्णु बन जाते हैं - duhkh uthaane ke kaaran sambhaavana: hamamen katuta aa jaatee hai, drashti sankuchit ho jaatee hai aur ham svaarthee aur doosaron kee kamiyon ke prati asahishnu ban jaate hain. : सरदार वल्लभ भाई पटेल

दुःख उठाने के कारण प्राय: हममें कटुता आ जाती है, द्रष्टि संकुचित हो जाती है और हम स्वार्थी तथा दूसरों की कमियों के प्रति असहिष्णु बन जाते हैं। : Duhkh uthaane ke kaaran sambhaavana: hamamen katuta aa jaatee hai, drashti sankuchit ho jaatee hai aur ham svaarthee aur doosaron kee kamiyon ke prati asahishnu ban jaate hain. - सरदार वल्लभ भाई पटेल

सेवा करने वाले मनुष्य को विन्रमता सीखनी चाहिए, वर्दी पहन कर अभिमान नहीं, विनम्रता आनी चाहिए - seva karane vaale manushy ko vinramata seekhanee chaahie, vardee pahan kar abhimaan nahin, vinamrata se aanee chaahie. : सरदार वल्लभ भाई पटेल

सेवा करने वाले मनुष्य को विन्रमता सीखनी चाहिए, वर्दी पहन कर अभिमान नहीं, विनम्रता आनी चाहिए। : Seva karane vaale manushy ko vinramata seekhanee chaahie, vardee pahan kar abhimaan nahin, vinamrata se aanee chaahie. - सरदार वल्लभ भाई पटेल

सत्य के मार्ग पर चलने हेतु बुरे का त्याग अवश्यक है, चरित्र का सुधार आवश्यक है - saty ke maarg par chalane ke lie bure ka tyaag avagat hai, charitr ka sudhaar aavashyak hai. : सरदार वल्लभ भाई पटेल

सत्य के मार्ग पर चलने हेतु बुरे का त्याग अवश्यक है, चरित्र का सुधार आवश्यक है। : Saty ke maarg par chalane ke lie bure ka tyaag avagat hai, charitr ka sudhaar aavashyak hai. - सरदार वल्लभ भाई पटेल

सत्ताधीशों की सत्ता उनकी मृत्यु के साथ ही समाप्त हो जाती है, पर महान देशभक्तों की सत्ता मरने के बाद काम करती है, अतः देशभक्ति अर्थात् देश-सेवा में जो मिठास है, वह और किसी चीज में नहीं - sattaadheeshon kee satta unakee mrtyu ke saath hee samaapt ho jaatee hai, par mahaan deshabhakton kee satta marane ke baad kaam karatee hai, atah deshabhakti arthaat desh-seva mein jo mithaas hai, vah aur kisee cheej mein nahin। : सरदार वल्लभ भाई पटेल

सत्ताधीशों की सत्ता उनकी मृत्यु के साथ ही समाप्त हो जाती है, पर महान देशभक्तों की सत्ता मरने के बाद काम करती है, अतः देशभक्ति अर्थात् देश-सेवा में जो मिठास है, वह और किसी चीज में नहीं। : Sattaadheeshon kee satta unakee mrtyu ke saath hee samaapt ho jaatee hai, par mahaan deshabhakton kee satta marane ke baad kaam karatee hai, atah deshabhakti arthaat desh-seva mein jo mithaas hai, vah aur kisee cheej mein nahin। - सरदार वल्लभ भाई पटेल

शिक्षा इस तरह की हो जो छात्र के मन का, शरीर का, और आत्मा का विकास करे - shiksha is tarah kee ho jo chhaatr ke man ka, shareer ka, aur aatma ka vikaas kare. : सरदार वल्लभ भाई पटेल

शिक्षा इस तरह की हो जो छात्र के मन का, शरीर का, और आत्मा का विकास करे। : Shiksha is tarah kee ho jo chhaatr ke man ka, shareer ka, aur aatma ka vikaas kare. - सरदार वल्लभ भाई पटेल