एक ज़माना ऐसा भी आएगा कि लोग अपने रब को भुल जाएंगे,लिबास बहुत क़ीमती पहन कर बज़ार में अकड़ कर चलेंगे और इस बात से बेखबर होंगे के उसी बाज़ार में उन का कफन मौजूद है - ek zamana aisa bhi ayega ki log apne rab ko bhul jayenge, libaas bahut kimati pahan kar bazaar mein akadkar chalenge aur is baat se bekhabar honge ke usi baazaar mein unka kafan maujood hai. : हजरत अली

एक ज़माना ऐसा भी आएगा कि लोग अपने रब को भुल जाएंगे,लिबास बहुत क़ीमती पहन कर बज़ार में अकड़ कर चलेंगे और इस बात से बेखबर होंगे के उसी बाज़ार में उन का कफन मौजूद है । : Ek zamana aisa bhi ayega ki log apne rab ko bhul jayenge, libaas bahut kimati pahan kar bazaar mein akadkar chalenge aur is baat se bekhabar honge ke usi baazaar mein unka kafan maujood hai. - हजरत अली

इन्सान का अपने दुश्मन से इन्तकाम का सबसे अच्छा तरीका ये है कि वो अपनी खूबियों में इज़ाफा कर दे !! - insaan ka apne dushman se intakaam ka sabse achchha tarika ye hai ki vo apani khoobiyon mein izaapha kar de. : हजरत अली

इन्सान का अपने दुश्मन से इन्तकाम का सबसे अच्छा तरीका ये है कि वो अपनी खूबियों में इज़ाफा कर दे !! : Insaan ka apne dushman se intakaam ka sabse achchha tarika ye hai ki vo apani khoobiyon mein izaapha kar de. - हजरत अली

समाज को श्रेणीविहीन और वर्णविहीन करना होगा क्योंकि श्रेणी ने इंसान को दरिद्र और वर्ण ने इंसान को दलित बना दिया। जिनके पास कुछ भी नहीं है, वे लोग दरिद्र माने गए और जो लोग कुछ भी नहीं है वे दलित समझे जाते हैं - samaaj ko shreneeviheen aur varnaviheen karana hoga kyonki shrenee ne insaan ko daridr aur varn ne insaan ko dalit bana diya. jinake paas kuchh bhee nahin hai, ve log daridr maane gae aur jo log kuchh bhee nahin hai ve dalit samajhe jaate hain. : डॉ॰ बी॰ आर॰ अम्बेडकर

समाज को श्रेणीविहीन और वर्णविहीन करना होगा क्योंकि श्रेणी ने इंसान को दरिद्र और वर्ण ने इंसान को दलित बना दिया। जिनके पास कुछ भी नहीं है, वे लोग दरिद्र माने गए और जो लोग कुछ भी नहीं है वे दलित समझे जाते हैं। : Samaaj ko shreneeviheen aur varnaviheen karana hoga kyonki shrenee ne insaan ko daridr aur varn ne insaan ko dalit bana diya. jinake paas kuchh bhee nahin hai, ve log daridr maane gae aur jo log kuchh bhee nahin hai ve dalit samajhe jaate hain. - डॉ॰ बी॰ आर॰ अम्बेडकर