अतीत पे धयान मत दो, भविष्य के बारे में मत सोचो, अपने मन को वर्तमान क्षण पे केन्द्रित करो - ateet pe dhyan mat do, bhavishya ke baare me mat socho aona saara dhyan vartman par kendrit karo. : गौतम बुद्ध

अतीत पे धयान मत दो, भविष्य के बारे में मत सोचो, अपने मन को वर्तमान क्षण पे केन्द्रित करो। : Ateet pe dhyan mat do, bhavishya ke baare me mat socho aona saara dhyan vartman par kendrit karo. - गौतम बुद्ध

समाज को श्रेणीविहीन और वर्णविहीन करना होगा क्योंकि श्रेणी ने इंसान को दरिद्र और वर्ण ने इंसान को दलित बना दिया। जिनके पास कुछ भी नहीं है, वे लोग दरिद्र माने गए और जो लोग कुछ भी नहीं है वे दलित समझे जाते हैं - samaaj ko shreneeviheen aur varnaviheen karana hoga kyonki shrenee ne insaan ko daridr aur varn ne insaan ko dalit bana diya. jinake paas kuchh bhee nahin hai, ve log daridr maane gae aur jo log kuchh bhee nahin hai ve dalit samajhe jaate hain. : डॉ॰ बी॰ आर॰ अम्बेडकर

समाज को श्रेणीविहीन और वर्णविहीन करना होगा क्योंकि श्रेणी ने इंसान को दरिद्र और वर्ण ने इंसान को दलित बना दिया। जिनके पास कुछ भी नहीं है, वे लोग दरिद्र माने गए और जो लोग कुछ भी नहीं है वे दलित समझे जाते हैं। : Samaaj ko shreneeviheen aur varnaviheen karana hoga kyonki shrenee ne insaan ko daridr aur varn ne insaan ko dalit bana diya. jinake paas kuchh bhee nahin hai, ve log daridr maane gae aur jo log kuchh bhee nahin hai ve dalit samajhe jaate hain. - डॉ॰ बी॰ आर॰ अम्बेडकर

सत्य के मार्ग पर चलने हेतु बुरे का त्याग अवश्यक है, चरित्र का सुधार आवश्यक है - saty ke maarg par chalane ke lie bure ka tyaag avagat hai, charitr ka sudhaar aavashyak hai. : सरदार वल्लभ भाई पटेल

सत्य के मार्ग पर चलने हेतु बुरे का त्याग अवश्यक है, चरित्र का सुधार आवश्यक है। : Saty ke maarg par chalane ke lie bure ka tyaag avagat hai, charitr ka sudhaar aavashyak hai. - सरदार वल्लभ भाई पटेल

हमने यह महसूस किया है कि यदि हमने विभाजन स्वीकार नहीं किया तो भारत छोटे – छोटे टुकड़ों में विभाजित होकर विनष्ट हो जाएगा। कार्यालय में मेरे एक वर्ष के अनुभव से मुझे ज्ञात हुआ कि हम जिस रास्ते पर चल रहे थे वह हमें विनाश की ओर ले जा रहा था। ऐसा करने पर हमारे पास एक नहीं कई पाकिस्तान होते। हमारे प्रत्येक कार्यालय में एक पाकिस्तानी शाखा होती - hamane yah mahasoos kiya hai ki yadi hamane vibhaajan sveekaar nahin kiya to bhaarat chhote - chhote tukadon mein vibhaajit hokar vinasht ho jaega. kaaryaalay mein mere ek varsh ke anubhav se mujhe gyaat hua ki ham jis raaste par chal rahe the vah hamen vinaash kee or le ja raha tha. aisa karane par hamaare paas ek nahin kaee paakistaan hain. hamaare pratyek kaaryaalay mein ek paakistaanee shaakha hotee hai. : सरदार वल्लभ भाई पटेल

हमने यह महसूस किया है कि यदि हमने विभाजन स्वीकार नहीं किया तो भारत छोटे – छोटे टुकड़ों में विभाजित होकर विनष्ट हो जाएगा। कार्यालय में मेरे एक वर्ष के अनुभव से मुझे ज्ञात हुआ कि हम जिस रास्ते पर चल रहे थे वह हमें विनाश की ओर ले जा रहा था। ऐसा करने पर हमारे पास एक नहीं कई पाकिस्तान होते। हमारे प्रत्येक कार्यालय में एक पाकिस्तानी शाखा होती। : Hamane yah mahasoos kiya hai ki yadi hamane vibhaajan sveekaar nahin kiya to bhaarat chhote - chhote tukadon mein vibhaajit hokar vinasht ho jaega. kaaryaalay mein mere ek varsh ke anubhav se mujhe gyaat hua ki ham jis raaste par chal rahe the vah hamen vinaash kee or le ja raha tha. aisa karane par hamaare paas ek nahin kaee paakistaan hain. hamaare pratyek kaaryaalay mein ek paakistaanee shaakha hotee hai. - सरदार वल्लभ भाई पटेल

एक हिंसक क्रांति हमेशा किसी न किसी तरह की तानाशाही लेकर आई है… क्रांति के बाद, धीरे-धीरे एक नया विशेषाधिकार प्राप्त शासकों एवं शोषकों का वर्ग खड़ा हो जाता है, लोग एक बार फिर जिसके अधीन हो जाते हैं - ek hinsak kranti hamesha kisi na kisi tanashah ko lekar aayi hai. krati ke baad dheere dheere ek naya visheshadhikar prapt shasko evam shoshko ka varg khada ho jata hai. log ek baar fir adheen ho jate hain. : जयप्रकाश नारायण

एक हिंसक क्रांति हमेशा किसी न किसी तरह की तानाशाही लेकर आई है… क्रांति के बाद, धीरे-धीरे एक नया विशेषाधिकार प्राप्त शासकों एवं शोषकों का वर्ग खड़ा हो जाता है, लोग एक बार फिर जिसके अधीन हो जाते हैं। : Ek hinsak kranti hamesha kisi na kisi tanashah ko lekar aayi hai. krati ke baad dheere dheere ek naya visheshadhikar prapt shasko evam shoshko ka varg khada ho jata hai. log ek baar fir adheen ho jate hain. - जयप्रकाश नारायण