समाज को श्रेणीविहीन और वर्णविहीन करना होगा क्योंकि श्रेणी ने इंसान को दरिद्र और वर्ण ने इंसान को दलित बना दिया। जिनके पास कुछ भी नहीं है, वे लोग दरिद्र माने गए और जो लोग कुछ भी नहीं है वे दलित समझे जाते हैं - samaaj ko shreneeviheen aur varnaviheen karana hoga kyonki shrenee ne insaan ko daridr aur varn ne insaan ko dalit bana diya. jinake paas kuchh bhee nahin hai, ve log daridr maane gae aur jo log kuchh bhee nahin hai ve dalit samajhe jaate hain. : डॉ॰ बी॰ आर॰ अम्बेडकर

समाज को श्रेणीविहीन और वर्णविहीन करना होगा क्योंकि श्रेणी ने इंसान को दरिद्र और वर्ण ने इंसान को दलित बना दिया। जिनके पास कुछ भी नहीं है, वे लोग दरिद्र माने गए और जो लोग कुछ भी नहीं है वे दलित समझे जाते हैं। : Samaaj ko shreneeviheen aur varnaviheen karana hoga kyonki shrenee ne insaan ko daridr aur varn ne insaan ko dalit bana diya. jinake paas kuchh bhee nahin hai, ve log daridr maane gae aur jo log kuchh bhee nahin hai ve dalit samajhe jaate hain. - डॉ॰ बी॰ आर॰ अम्बेडकर

कुछ लोग सोचते हैं कि धर्म समाज के लिए आवश्यक नहीं है। मैं यह दृष्टिकोण नहीं रखता। मैं धर्म की नींव को समाज के जीवन और प्रथाओं के लिए आवश्यक मानता हूं - kuchh log sochate hain ki dharm samaaj ke lie aavashyak nahin hai. main yah drshtikon nahin rakhata hai main dharm kee neenv ko samaaj ke jeevan aur jeevan ke lie aavashyak maanata hoon. : डॉ॰ बी॰ आर॰ अम्बेडकर

कुछ लोग सोचते हैं कि धर्म समाज के लिए आवश्यक नहीं है। मैं यह दृष्टिकोण नहीं रखता। मैं धर्म की नींव को समाज के जीवन और प्रथाओं के लिए आवश्यक मानता हूं। : Kuchh log sochate hain ki dharm samaaj ke lie aavashyak nahin hai. main yah drshtikon nahin rakhata hai main dharm kee neenv ko samaaj ke jeevan aur jeevan ke lie aavashyak maanata hoon. - डॉ॰ बी॰ आर॰ अम्बेडकर

एक विचार को प्रसार की उतनी ही आवश्यकता होती है जितना कि एक पौधे को पानी की आवश्यकता होती है। नहीं तो दोनों मुरझाएंगे और मर जायेंगे - ek vichaar ko phailaane kee utanee hee aavashyakata hotee hai kyonki ek paudhe ko paanee kee aavashyakata hotee hai. nahin to donon murajhaenge aur mar jaenge. : लाल बहादुर शास्त्री

एक विचार को प्रसार की उतनी ही आवश्यकता होती है जितना कि एक पौधे को पानी की आवश्यकता होती है। नहीं तो दोनों मुरझाएंगे और मर जायेंगे। : Ek vichaar ko phailaane kee utanee hee aavashyakata hotee hai kyonki ek paudhe ko paanee kee aavashyakata hotee hai. nahin to donon murajhaenge aur mar jaenge. - लाल बहादुर शास्त्री

उसकी जाति, रंग या नस्ल जो भी हो, हम एक व्यक्ति के रूप में मनुष्य की गरिमा में और उसके बेहतर, संपूर्ण और समृद्ध जीवन के लिए उसके अधिकार पर विश्वास करते हैं - usakee jaati, rang ya nasl jo bhee ho, ham ek vyakti ke roop mein manushy kee garima mein aur usake behatar, sampoorn aur samrddh jeevan ke lie usake adhikaar par vishvaas karate hain. : लाल बहादुर शास्त्री

उसकी जाति, रंग या नस्ल जो भी हो, हम एक व्यक्ति के रूप में मनुष्य की गरिमा में और उसके बेहतर, संपूर्ण और समृद्ध जीवन के लिए उसके अधिकार पर विश्वास करते हैं। : Usakee jaati, rang ya nasl jo bhee ho, ham ek vyakti ke roop mein manushy kee garima mein aur usake behatar, sampoorn aur samrddh jeevan ke lie usake adhikaar par vishvaas karate hain. - लाल बहादुर शास्त्री