जो धर्म जन्‍म से एक को श्रेष्‍ठ और दूसरे को नीच बताये वह धर्म नहीं, गुलाम बनाए रखने का षड़यंत्र है - jo dharm jayamm se ek ko shrey aur doosare ko neech bata vah dharm nahin, gulaam banae rakhane ka shadayantr hai. : डॉ॰ बी॰ आर॰ अम्बेडकर

जो धर्म जन्‍म से एक को श्रेष्‍ठ और दूसरे को नीच बताये वह धर्म नहीं, गुलाम बनाए रखने का षड़यंत्र है। : Jo dharm jayamm se ek ko shrey aur doosare ko neech bata vah dharm nahin, gulaam banae rakhane ka shadayantr hai. - डॉ॰ बी॰ आर॰ अम्बेडकर

हम क्या सोचते हैं, क्या जानते हैं, और किसमें विश्वास करते हैं – अंततः ये बातें मायने नहीं रखतीं. हम क्या करते हैं वही महत्वपूर्ण है - hum kya sochte hain, kya janate hain aur kisme vishwas karte hain - antatah ye baatein maayne nahi rakhti , hum kya karte hain yah mahatva rkhata hai. : जॉन रस्किन

हम क्या सोचते हैं, क्या जानते हैं, और किसमें विश्वास करते हैं – अंततः ये बातें मायने नहीं रखतीं. हम क्या करते हैं वही महत्वपूर्ण है। : Hum kya sochte hain, kya janate hain aur kisme vishwas karte hain - antatah ye baatein maayne nahi rakhti , hum kya karte hain yah mahatva rkhata hai. - जॉन रस्किन