अस्पृश्यता वह विष है, जो धीरे-धीरे हिंदू धर्म के प्राण ले रहा है|इस बुराई को जितनी जल्दी निर्मल कर दिया जाए,उतना ही समाज मानव जाति के लिए कल्याणकारी होगा| - ashprashyata vah vish hai jo dheere dheere hindu dharm ke praan le raha hai. is buraai ko jitni jaldi hi niramal kar diya jaaye utna hi maanva jaati aur samaj ke lye kalyankaari hai : महात्मा गाँधी

अस्पृश्यता वह विष है, जो धीरे-धीरे हिंदू धर्म के प्राण ले रहा है|इस बुराई को जितनी जल्दी निर्मल कर दिया जाए,उतना ही समाज मानव जाति के लिए कल्याणकारी होगा| : Ashprashyata vah vish hai jo dheere dheere hindu dharm ke praan le raha hai. is buraai ko jitni jaldi hi niramal kar diya jaaye utna hi maanva jaati aur samaj ke lye kalyankaari hai - महात्मा गाँधी

आप मानवता में विश्वास मत खोइए, मानवता सागर की तरह है। अगर सागर की कुछ बूँदें गन्दी हैं, तो सागर गन्दा नहीं हो जाता - aap maanavata mein vishvaas mat khoie, maanavata saagar kee tarah hai. agar saagar kee kuchh boonden gandee hain, to saagar ganda nahin ho jaega. : महात्मा गाँधी

आप मानवता में विश्वास मत खोइए, मानवता सागर की तरह है। अगर सागर की कुछ बूँदें गन्दी हैं, तो सागर गन्दा नहीं हो जाता। : Aap maanavata mein vishvaas mat khoie, maanavata saagar kee tarah hai. agar saagar kee kuchh boonden gandee hain, to saagar ganda nahin ho jaega. - महात्मा गाँधी

जिस दिन प्रेम की शक्ति, शक्ति के प्रति प्रेम पर हावी हो जायेगी, दुनिया में अमन आ जायेगा - jis din prem kee shakti, shakti ke prati prem par haavee ho jaayegee, duniya mein aman aa jaega. : महात्मा गाँधी

जिस दिन प्रेम की शक्ति, शक्ति के प्रति प्रेम पर हावी हो जायेगी, दुनिया में अमन आ जायेगा। : Jis din prem kee shakti, shakti ke prati prem par haavee ho jaayegee, duniya mein aman aa jaega. - महात्मा गाँधी

अधिक संपत्ति नहीं, बल्कि सरल आनंद को खोजें। बड़े भाग्य नहीं, बल्कि परम सुख को खोजें - adhik sampatti nahin, balki saral aanand ko khojen. bade bhaagy nahin, balki param sukh ko khojen. : महात्मा गाँधी

अधिक संपत्ति नहीं, बल्कि सरल आनंद को खोजें। बड़े भाग्य नहीं, बल्कि परम सुख को खोजें। : Adhik sampatti nahin, balki saral aanand ko khojen. bade bhaagy nahin, balki param sukh ko khojen. - महात्मा गाँधी

आपकी आदतें आपके मूल्य बन जाते हैं, आपके मूल्य आपकी नीयति बन जाती है - aapakee aadaten aapake mooly ban jaatee hain, aapake mooly aapakee neeyatee ban jaatee hain. : महात्मा गाँधी

आपकी आदतें आपके मूल्य बन जाते हैं, आपके मूल्य आपकी नीयति बन जाती है। : Aapakee aadaten aapake mooly ban jaatee hain, aapake mooly aapakee neeyatee ban jaatee hain. - महात्मा गाँधी