जीतने की संकल्प शक्ति, सफल होने की इच्छा और अपने अंदर मौजूद क्षमताओं के उच्चतम् स्तर तक पहुंचने की तीव्र अभिलाषा, ये ऐसी चाबियां हैं जो व्यक्तिगत उत्कृष्टता के बंद दरवाजे खोल देती है - jeetne ki sankalp shakti, safal hone ki ichha aur apne andar mauzood kshamtao ke uchchatam star tak pahunchne kee teevra abhilasha, ye esi chaabiyan hain ji vyakti ki utkrishtata ke band darwaje khol deti hain. : कन्फ्युशियस

जीतने की संकल्प शक्ति, सफल होने की इच्छा और अपने अंदर मौजूद क्षमताओं के उच्चतम् स्तर तक पहुंचने की तीव्र अभिलाषा, ये ऐसी चाबियां हैं जो व्यक्तिगत उत्कृष्टता के बंद दरवाजे खोल देती है। : Jeetne ki sankalp shakti, safal hone ki ichha aur apne andar mauzood kshamtao ke uchchatam star tak pahunchne kee teevra abhilasha, ye esi chaabiyan hain ji vyakti ki utkrishtata ke band darwaje khol deti hain. - कन्फ्युशियस

मैं यह नहीं कहूँगा कि मैं 1000 बार असफल हुआ, मैं यह कहूँगा कि ऐसे 1000 रास्ते हैं जो आपको सफलता से दूर ले जाते हैं - main yah nahi kahunga ki 1000 baar asafal hua, main yah kahunga ki aise 1000 raaste hain jo aapko safalta se door le jaate hain. : थॉमस अल्वा एडिसन

मैं यह नहीं कहूँगा कि मैं 1000 बार असफल हुआ, मैं यह कहूँगा कि ऐसे 1000 रास्ते हैं जो आपको सफलता से दूर ले जाते हैं। : Main yah nahi kahunga ki 1000 baar asafal hua, main yah kahunga ki aise 1000 raaste hain jo aapko safalta se door le jaate hain. - थॉमस अल्वा एडिसन

मुझे ग्रामीण क्षेत्रों में एक मामूली कार्यकर्ता के रूप में लगभग पचास वर्ष तक कार्य करना पड़ा है, इसलिए मेरा ध्यान स्वत: ही उन लोगों की ओर तथा उन क्षेत्रों के हालात पर चला जाता है - mujhe graameen kshetron mein ek maamoolee kaaryakarta ke roop mein lagabhag pachaas varsh tak kaary karana pada hai, isalie mera dhyaan svatah: keval un logon kee or aur un kshetron ke haalaat par chala jaata hai. : लाल बहादुर शास्त्री

मुझे ग्रामीण क्षेत्रों में एक मामूली कार्यकर्ता के रूप में लगभग पचास वर्ष तक कार्य करना पड़ा है, इसलिए मेरा ध्यान स्वत: ही उन लोगों की ओर तथा उन क्षेत्रों के हालात पर चला जाता है। : Mujhe graameen kshetron mein ek maamoolee kaaryakarta ke roop mein lagabhag pachaas varsh tak kaary karana pada hai, isalie mera dhyaan svatah: keval un logon kee or aur un kshetron ke haalaat par chala jaata hai. - लाल बहादुर शास्त्री

जीवन ताश के पत्तों के खेल की तरह है। आपके हाथ में जो है वह नियति है, जिस तरह से आप खेलते हैं वह स्वतंत्र इच्छा है - jeevan kaard ke patton ke khel kee tarah hai. aapake haath mein jo hai vah niyati hai, jis tarah se aap khelate hain vah svatantr ichchha hai. : जवाहरलाल नेहरू

जीवन ताश के पत्तों के खेल की तरह है। आपके हाथ में जो है वह नियति है, जिस तरह से आप खेलते हैं वह स्वतंत्र इच्छा है। : Jeevan kaard ke patton ke khel kee tarah hai. aapake haath mein jo hai vah niyati hai, jis tarah se aap khelate hain vah svatantr ichchha hai. - जवाहरलाल नेहरू