हमारा एक नॉर्मल होता है। जब आप अपने कम्फर्ट जोन से बाहर निकल जाते हैं तो जो एक समय अनजाना और भयभीत करने वाला था अब आपका न्यू नॉर्मल बन जाता है - hamar ek normal hota hai jab aapapne comfort zone se baahar nikalte hain to jo ek samay anjaana aur bhaybheet karne waala tha ab aapka new normal ban jata hai : रॉबिन शर्मा

हमारा एक नॉर्मल होता है। जब आप अपने कम्फर्ट जोन से बाहर निकल जाते हैं तो जो एक समय अनजाना और भयभीत करने वाला था अब आपका न्यू नॉर्मल बन जाता है। : Hamar ek normal hota hai jab aapapne comfort zone se baahar nikalte hain to jo ek samay anjaana aur bhaybheet karne waala tha ab aapka new normal ban jata hai - रॉबिन शर्मा

लक्ष्य प्राप्त करना मायने रखता है। और जो बहादुरी भरे काम और साहसिक सपने आप पूरे करना चाहते हैं उनके बारे में लिखना उन्हें पूरा करने के लिए चिंगारी का काम करेगा - lakshya prapt karna maayne rakhta hi aur jobahaduri bhare kaam aur saahsik apne aap poora karna chahte hain , unehlikh lena unko poora karne ke liye chingaari ka kaam karega : रॉबिन शर्मा

लक्ष्य प्राप्त करना मायने रखता है। और जो बहादुरी भरे काम और साहसिक सपने आप पूरे करना चाहते हैं उनके बारे में लिखना उन्हें पूरा करने के लिए चिंगारी का काम करेगा। : Lakshya prapt karna maayne rakhta hi aur jobahaduri bhare kaam aur saahsik apne aap poora karna chahte hain , unehlikh lena unko poora karne ke liye chingaari ka kaam karega - रॉबिन शर्मा

हम ऐसी दुनिया में जीते हैं जहाँ फेसबुक पे हमारे बहुत से दोस्त हैं पर फिर भी हमने मानवीय लगाव खो दिया है - hum esi duniya me jeete hain jahan facebookpe hamare bahut saare dost hain par fir bhi humne maanveey laaav kho diya hai. : रॉबिन शर्मा

हम ऐसी दुनिया में जीते हैं जहाँ फेसबुक पे हमारे बहुत से दोस्त हैं पर फिर भी हमने मानवीय लगाव खो दिया है। : Hum esi duniya me jeete hain jahan facebookpe hamare bahut saare dost hain par fir bhi humne maanveey laaav kho diya hai. - रॉबिन शर्मा

यदि आप सचमुच विश्व–स्तरीय होना चाहते हैं– जितने अच्छे हो सकते हैं होना चाहते हैं तो अंतत: ये आपकी तैयारी और अभ्यास पर निर्भर करेगा - yadi aapsachmuch vishva-stareey hoa chahte hain- jitne achche ho sakte hain, hona chahte hain. ant me yah sab aapke abhayas aur taiyai par nirbhar karega. : रॉबिन शर्मा

यदि आप सचमुच विश्व–स्तरीय होना चाहते हैं– जितने अच्छे हो सकते हैं होना चाहते हैं तो अंतत: ये आपकी तैयारी और अभ्यास पर निर्भर करेगा। : Yadi aapsachmuch vishva-stareey hoa chahte hain- jitne achche ho sakte hain, hona chahte hain. ant me yah sab aapke abhayas aur taiyai par nirbhar karega. - रॉबिन शर्मा