पेड़ों को देखो, पक्षियों को देखो, बादलों में देखो, सितारों को देखो और अगर आपके पास आँखें है तो आप यह देखने में सक्षम होगे की पूरा अस्तित्व खुश है सब कुछ बस खुश है पेड़ बिना किसी कारण के खुश हैं; वे प्रधानमंत्री या राष्ट्रपति बनने नहीं जा रहे हैं और वे अमीर बनने भी जा रहे हैं और ना ही कभी उनके पास बैंक बैलेंस होगा .. फूलों को देखिये,- बिना किसी कारण के कितने खुश और अविश्वसनीय है - Pedo ko dekho, pankshiyo ko dekho, badalo mein dekho, shitaro ko dekho aur agar aapke pas ankhen hai to aap yah dekhne mein saksham honge ki poora astitv khush hai sab kuchh bas khush hai ped bina kisee kaaran ke khush hain; ve pradhaanamantree ya raashtrapati banane nahin ja rahe hain aur ve ameer banane bhee ja rahe hain aur na hee kabhee unake paas baink bailens hoga .. phoolon ko dekhiye, - bina kisee kaaran ke kitana khush aur avishvasaneey hai. : आचार्य रजनीश 'ओशो'

पेड़ों को देखो, पक्षियों को देखो, बादलों में देखो, सितारों को देखो और अगर आपके पास आँखें है तो आप यह देखने में सक्षम होगे की पूरा अस्तित्व खुश है सब कुछ बस खुश है पेड़ बिना किसी कारण के खुश हैं; वे प्रधानमंत्री या राष्ट्रपति बनने नहीं जा रहे हैं और वे अमीर बनने भी जा रहे हैं और ना ही कभी उनके पास बैंक बैलेंस होगा .. फूलों को देखिये,- बिना किसी कारण के कितने खुश और अविश्वसनीय है। : Pedo ko dekho, pankshiyo ko dekho, badalo mein dekho, shitaro ko dekho aur agar aapke pas ankhen hai to aap yah dekhne mein saksham honge ki poora astitv khush hai sab kuchh bas khush hai ped bina kisee kaaran ke khush hain; ve pradhaanamantree ya raashtrapati banane nahin ja rahe hain aur ve ameer banane bhee ja rahe hain aur na hee kabhee unake paas baink bailens hoga .. phoolon ko dekhiye, - bina kisee kaaran ke kitana khush aur avishvasaneey hai. - आचार्य रजनीश 'ओशो'

हम एक अद्भुत दुनिया में रहते हैं जो सौंदर्य, आकर्षण और रोमांच से भरी हुई है। यदि हम खुली आँखों से खोजे तो यहाँ रोमांच का कोई अंत नहीं है - ham ek adbhut duniya mein rahate hain jo saundary, aakarshan aur romaanch se bharee huee hai. yadi ham khulee aankhon se khoje to yahaan romaanch ka koee ant nahin hai. : जवाहरलाल नेहरू

हम एक अद्भुत दुनिया में रहते हैं जो सौंदर्य, आकर्षण और रोमांच से भरी हुई है। यदि हम खुली आँखों से खोजे तो यहाँ रोमांच का कोई अंत नहीं है। : Ham ek adbhut duniya mein rahate hain jo saundary, aakarshan aur romaanch se bharee huee hai. yadi ham khulee aankhon se khoje to yahaan romaanch ka koee ant nahin hai. - जवाहरलाल नेहरू

अक्सर मैं, ऐसे बच्चे जो मुझे अपना साथ दे सकते हैं, के साथ हंसी-मजाक करता हूँ। जब तक एक इंसान अपने अन्दर के बच्चे को बचाए रख सकता है तभी तक उसका जीवन उस अंधकारमयी छाया से दूर रह सकता है, जो इंसान के माथे पर चिंता की रेखाएं छोड़ जाती है - aksar main, aise bachche jo mujhe apana saath de sakate hain, ke saath hansee-majaak karata hoon. jab tak ek vyakti apane andar ke bachche ko bachaanee rakh sakata hai tab tak usaka jeevan us andhakaaramayee chhaaya se door rah sakata hai, jo insaan ke maathe par chinta kee rekhaen chhod jaatee hai. : सरदार वल्लभ भाई पटेल

अक्सर मैं, ऐसे बच्चे जो मुझे अपना साथ दे सकते हैं, के साथ हंसी-मजाक करता हूँ। जब तक एक इंसान अपने अन्दर के बच्चे को बचाए रख सकता है तभी तक उसका जीवन उस अंधकारमयी छाया से दूर रह सकता है, जो इंसान के माथे पर चिंता की रेखाएं छोड़ जाती है। : Aksar main, aise bachche jo mujhe apana saath de sakate hain, ke saath hansee-majaak karata hoon. jab tak ek vyakti apane andar ke bachche ko bachaanee rakh sakata hai tab tak usaka jeevan us andhakaaramayee chhaaya se door rah sakata hai, jo insaan ke maathe par chinta kee rekhaen chhod jaatee hai. - सरदार वल्लभ भाई पटेल

अधिक संपत्ति नहीं, बल्कि सरल आनंद को खोजें। बड़े भाग्य नहीं, बल्कि परम सुख को खोजें - adhik sampatti nahin, balki saral aanand ko khojen. bade bhaagy nahin, balki param sukh ko khojen. : महात्मा गाँधी

अधिक संपत्ति नहीं, बल्कि सरल आनंद को खोजें। बड़े भाग्य नहीं, बल्कि परम सुख को खोजें। : Adhik sampatti nahin, balki saral aanand ko khojen. bade bhaagy nahin, balki param sukh ko khojen. - महात्मा गाँधी

आप प्रसन्न है या नहीं यह सोचने के लिए फुरसत होना ही दुखी होने का रहस्य है, और इसका उपाय है व्यवसाय - aap prasanna hai ya nahi yah sochne ke liye fursat hona hi dukhi hone ka rahasya hai, aur iska upaay hai vyavsaay. : जॉर्ज बर्नार्ड शॉ

आप प्रसन्न है या नहीं यह सोचने के लिए फुरसत होना ही दुखी होने का रहस्य है, और इसका उपाय है व्यवसाय। : Aap prasanna hai ya nahi yah sochne ke liye fursat hona hi dukhi hone ka rahasya hai, aur iska upaay hai vyavsaay. - जॉर्ज बर्नार्ड शॉ