किसी ने हजरत अली रज़ी से पूछा के जिनकी माँ नही होती उनके बच्चों को दुआ कौन देता है? आप ने फरमाया के कोई झील अगर सुख भी जाए तो मिट्टी से नमी नही जाती इसी तरह माँ के इन्तेकाल के बाद भी अपनी औलाद को दुआ देती रहती है - kisi ne hajrat ali razi se puchha ke jinaki maa nahi hoti unke bachon ko dua kaun deta hai? apne pharamaaya ke koi jheel agar sukh bhi jaye to mitti se nami nahi jaati isi tarah maa ke intekaal ke baad bhi apani aulaad ko dua deti rahati hai : हजरत अली

किसी ने हजरत अली रज़ी से पूछा के जिनकी माँ नही होती उनके बच्चों को दुआ कौन देता है? आप ने फरमाया के कोई झील अगर सुख भी जाए तो मिट्टी से नमी नही जाती इसी तरह माँ के इन्तेकाल के बाद भी अपनी औलाद को दुआ देती रहती है। : Kisi ne hajrat ali razi se puchha ke jinaki maa nahi hoti unke bachon ko dua kaun deta hai? apne pharamaaya ke koi jheel agar sukh bhi jaye to mitti se nami nahi jaati isi tarah maa ke intekaal ke baad bhi apani aulaad ko dua deti rahati hai - हजरत अली

प्रेम तो प्रेम है। माता को अपना काना-कुबड़ा बच्चा भी सुंदर लगता है और वह उससे असीम प्रेम करती है - prem to prem hai. maata ko apana kaana-kubada bachcha bhee sundar lagata hai aur vah use aseem prem karatee hai. : सरदार वल्लभ भाई पटेल

प्रेम तो प्रेम है। माता को अपना काना-कुबड़ा बच्चा भी सुंदर लगता है और वह उससे असीम प्रेम करती है। : Prem to prem hai. maata ko apana kaana-kubada bachcha bhee sundar lagata hai aur vah use aseem prem karatee hai. - सरदार वल्लभ भाई पटेल

शक्ति जीवन है, निर्बलता मृत्यु है। विस्तार जीवन है, संकुचन मृत्यु है। प्रेम जीवन है, द्वेष मृत्यु है - shakti jeevan hai, nirbalata mrtyu hai. vistaar jeevan hai, sankuchan mrtyu hai. prem jeevan hai, dvesh mrtyu hai. : स्वामी विवेकानन्द

शक्ति जीवन है, निर्बलता मृत्यु है। विस्तार जीवन है, संकुचन मृत्यु है। प्रेम जीवन है, द्वेष मृत्यु है। : Shakti jeevan hai, nirbalata mrtyu hai. vistaar jeevan hai, sankuchan mrtyu hai. prem jeevan hai, dvesh mrtyu hai. - स्वामी विवेकानन्द

प्रेम विस्तार है, स्वार्थ संकुचन है। इसलिए प्रेम जीवन का सिद्धांत है। वह जो प्रेम करता है जीता है। वह जो स्वार्थी है मर रहा है। इसलिए प्रेम के लिए प्रेम करो, क्योंकि जीने का यही एक मात्र सिद्धांत है। वैसे ही जैसे कि तुम जीने के लिए सांस लेते हो - prem vistaar hai, aatm sankuchan hai. isalie prem jeevan ka siddhaant hai. vah jo prem karata hai jeeta hai. vah jo svaarthee hai mar raha hai. isalie prem ke lie prem karo, kyonki jeene ka yahee ek maatr siddhaant hai. vaise hee jaise ki tum jeene ke lie saans lete ho. : स्वामी विवेकानन्द

प्रेम विस्तार है, स्वार्थ संकुचन है। इसलिए प्रेम जीवन का सिद्धांत है। वह जो प्रेम करता है जीता है। वह जो स्वार्थी है मर रहा है। इसलिए प्रेम के लिए प्रेम करो, क्योंकि जीने का यही एक मात्र सिद्धांत है। वैसे ही जैसे कि तुम जीने के लिए सांस लेते हो। : Prem vistaar hai, aatm sankuchan hai. isalie prem jeevan ka siddhaant hai. vah jo prem karata hai jeeta hai. vah jo svaarthee hai mar raha hai. isalie prem ke lie prem karo, kyonki jeene ka yahee ek maatr siddhaant hai. vaise hee jaise ki tum jeene ke lie saans lete ho. - स्वामी विवेकानन्द