सिर्फ तर्क करने वाला दिमाग एक ऐसे चाक़ू की तरह है जिसमे सिर्फ ब्लेड है। यह इसका प्रयोग करने वाले के हाथ से खून निकाल देता है - sirf tark karne wala dimag ek aise chaakoo ki tarah hai jisme sirf ek blade hai. iska prayog karne wale ke hatho se yah khoon nikaal deta hai. : रवीन्द्रनाथ टैगोर

सिर्फ तर्क करने वाला दिमाग एक ऐसे चाक़ू की तरह है जिसमे सिर्फ ब्लेड है। यह इसका प्रयोग करने वाले के हाथ से खून निकाल देता है। : Sirf tark karne wala dimag ek aise chaakoo ki tarah hai jisme sirf ek blade hai. iska prayog karne wale ke hatho se yah khoon nikaal deta hai. - रवीन्द्रनाथ टैगोर

मंदिर की गंभीर उदासी से बाहर भागकर बच्चे धूल में बैठते हैं, भगवान् उन्हें खेलता देखते हैं और पुजारी को भूल जाते हैं - mandir ki gambhie udaasi se bahar bhagkar bachche dhool mein baithte hain , bhagwan unhe khelte dekhta hai aur pujaari ko bhool jata hai : रवीन्द्रनाथ टैगोर

मंदिर की गंभीर उदासी से बाहर भागकर बच्चे धूल में बैठते हैं, भगवान् उन्हें खेलता देखते हैं और पुजारी को भूल जाते हैं। : Mandir ki gambhie udaasi se bahar bhagkar bachche dhool mein baithte hain , bhagwan unhe khelte dekhta hai aur pujaari ko bhool jata hai - रवीन्द्रनाथ टैगोर