जो कुछ हमारा है वो हम तक तभी पहुचता है जब हम उसे ग्रहण करने की क्षमता विकसित करते हैं।

इमेज का डाउनलोड लिंक नीचे दिया गया है

जो कुछ हमारा है वो हम तक तभी पहुचता है जब हम उसे ग्रहण करने की क्षमता विकसित करते हैं। : Jo kuchh hamara hai wo hum tak atabhi aphunchta hai jab hum use grahan karne ki kshamta viksit kar lete hain. - रविंद्रनाथ टैगोरजो कुछ हमारा है वो हम तक तभी पहुचता है जब हम उसे ग्रहण करने की क्षमता विकसित करते हैं। : Jo kuchh hamara hai wo hum tak atabhi aphunchta hai jab hum use grahan karne ki kshamta viksit kar lete hain. - रविंद्रनाथ टैगोर
jj जो कुछ हमारा है वो हम तक तभी पहुचता है जब हम उसे ग्रहण करने की क्षमता विकसित करते हैं। : Jo kuchh hamara hai wo hum tak atabhi aphunchta hai jab hum use grahan karne ki kshamta viksit kar lete hain. - Desktop

Leave A Reply

Your email address will not be published.