निहित स्वार्थों को तब तक स्वेच्छा से नहीं छोड़ा गया है जब तक कि मजबूर करने के लिए पर्याप्त बल ना लगाया गया हो - nihit svaarthon ko tab tak svechchha se nahin chhoda gaya hai jab tak ki majaboor karane ke lie paryaapt bal na lagaaya gaya ho. : डॉ॰ बी॰ आर॰ अम्बेडकर

निहित स्वार्थों को तब तक स्वेच्छा से नहीं छोड़ा गया है जब तक कि मजबूर करने के लिए पर्याप्त बल ना लगाया गया हो। : Nihit svaarthon ko tab tak svechchha se nahin chhoda gaya hai jab tak ki majaboor karane ke lie paryaapt bal na lagaaya gaya ho. - डॉ॰ बी॰ आर॰ अम्बेडकर

समाज में अनपढ़ लोग हैं ये हमारे समाज की समस्या नही है। लेकिन जब समाज के पढ़े लिखे लोग भी गलत बातों का समर्थन करने लगते हैं और गलत को सही दिखाने के लिए अपने बुद्धि का उपयोग करते हैं, यही हमारे समाज की समस्या है - samaaj mein anapadh log hain ye hamaare samaaj kee samasya nahin hai. lekin jab samaaj ke padhe likhe log bhee galat cheejon ka samarthan karane lagate hain aur galat ko sahee dikhaane ke lie apanee buddhi ka upayog karate hain, yahee hamaare samaaj kee samasya hai. : डॉ॰ बी॰ आर॰ अम्बेडकर

समाज में अनपढ़ लोग हैं ये हमारे समाज की समस्या नही है। लेकिन जब समाज के पढ़े लिखे लोग भी गलत बातों का समर्थन करने लगते हैं और गलत को सही दिखाने के लिए अपने बुद्धि का उपयोग करते हैं, यही हमारे समाज की समस्या है। : Samaaj mein anapadh log hain ye hamaare samaaj kee samasya nahin hai. lekin jab samaaj ke padhe likhe log bhee galat cheejon ka samarthan karane lagate hain aur galat ko sahee dikhaane ke lie apanee buddhi ka upayog karate hain, yahee hamaare samaaj kee samasya hai. - डॉ॰ बी॰ आर॰ अम्बेडकर