बोधविचार - प्रेरक, ज्ञानपूर्ण व बेहतरीन विचारों का संग्रह

यदि हर इंसान द्वारा शिक्षा के वास्तविक अर्थ को समझ लिया जाता और उस शिक्षा को मानव गतिविधि के प्रत्येक क्षेत्र में आगे बढ़ाया जाता तो यह दुनिया रहने लिए कहीं ज्यादा अच्छी जगह होती - yadi har vyakti dvaara shiksha ke vaastavik arth ko samajh liya jaata hai aur us shiksha ko maanav gatividhi ke pratyek kshetr mein aage badhaaya jaata hai to yah duniya rahane ke lie kaheen jyaada achchhee jagah hotee hai. : ए पी जे अब्दुल कलाम

यदि हर इंसान द्वारा शिक्षा के वास्तविक अर्थ को समझ लिया जाता और उस शिक्षा को मानव गतिविधि के प्रत्येक क्षेत्र में आगे बढ़ाया जाता तो यह दुनिया रहने लिए कहीं ज्यादा अच्छी जगह होती। : Yadi har vyakti dvaara shiksha ke vaastavik arth ko samajh liya jaata hai aur us shiksha ko maanav gatividhi ke pratyek kshetr mein aage badhaaya jaata hai to yah duniya rahane ke lie kaheen jyaada achchhee jagah hotee hai. - ए पी जे अब्दुल कलाम

यदि आपकी नज़र लाभ पर रहेगी तो आपका ध्यान उत्पाद की गुणवत्ता से हट जायेगा। लेकिन यदि आप एक अच्छा उत्पाद बनाने पर ध्यान लगाओगे तो लाभ अपने आप आपका अनुसरण करेंगा - yadi aapki najar laabh par rahegi to aapka dhyaan utpaad ki gunvatta se hat jaayega, lekin yadiaap ek achchha utpaad banane par dhyaan lagaoge to laabh aapka anusaran karega. : स्टीव जॉब्स

यदि आपकी नज़र लाभ पर रहेगी तो आपका ध्यान उत्पाद की गुणवत्ता से हट जायेगा। लेकिन यदि आप एक अच्छा उत्पाद बनाने पर ध्यान लगाओगे तो लाभ अपने आप आपका अनुसरण करेंगा। : Yadi aapki najar laabh par rahegi to aapka dhyaan utpaad ki gunvatta se hat jaayega, lekin yadiaap ek achchha utpaad banane par dhyaan lagaoge to laabh aapka anusaran karega. - स्टीव जॉब्स

लगातार श्रम करना ही आपकी सफलता का साथी है, इसलिए श्रम को सकारात्मक बनाएं विनाशक नहीं। श्रम एक अपराधी भी करता है, लेकिन उसका लक्ष्य सिर्फ किसी को नुकसान पहुंचाना या फिर किसी की जान लेना ही होता है - lagaataar shram karana hee aapakee saphalata ka saathee hai, isalie shram ko sakaaraatmak banaen vinaashak nahin. shram ek aparaadhee bhee karata hai, lekin usaka lakshy sirph kisee ko nukasaan pahunchaana ya phir kisee kee jaan lena hee hota hai. : स्वामी विवेकानन्द

लगातार श्रम करना ही आपकी सफलता का साथी है, इसलिए श्रम को सकारात्मक बनाएं विनाशक नहीं। श्रम एक अपराधी भी करता है, लेकिन उसका लक्ष्य सिर्फ किसी को नुकसान पहुंचाना या फिर किसी की जान लेना ही होता है। : Lagaataar shram karana hee aapakee saphalata ka saathee hai, isalie shram ko sakaaraatmak banaen vinaashak nahin. shram ek aparaadhee bhee karata hai, lekin usaka lakshy sirph kisee ko nukasaan pahunchaana ya phir kisee kee jaan lena hee hota hai. - स्वामी विवेकानन्द