बोधविचार - प्रेरक, ज्ञानपूर्ण व बेहतरीन विचारों का संग्रह

समानता एक कल्पना हो सकती है, लेकिन फिर भी इसे एक गवर्निंग सिद्धांत रूप में स्वीकार करना होगा - samanta ki kalpna ho sakti hai, lekin fir bhi ise ek governing siddhant ke roop mr sweekar karna hoga. : डॉ॰ बी॰ आर॰ अम्बेडकर

समानता एक कल्पना हो सकती है, लेकिन फिर भी इसे एक गवर्निंग सिद्धांत रूप में स्वीकार करना होगा। : Samanta ki kalpna ho sakti hai, lekin fir bhi ise ek governing siddhant ke roop mr sweekar karna hoga. - डॉ॰ बी॰ आर॰ अम्बेडकर

एकता के बिना जनशक्ति शक्ति नहीं है जब तक उसे ठीक तरह से सामंजस्य में ना लाया जाए और एकजुट ना किया जाए, और तब यह आध्यात्मिक शक्ति बन जाती है - ekta ke bina janshakti nahi hai., jab tak use theek tarah se saamanjasya mein na laaya jaaye aur ekjut na kiya jaaye. : सरदार वल्लभ भाई पटेल

एकता के बिना जनशक्ति शक्ति नहीं है जब तक उसे ठीक तरह से सामंजस्य में ना लाया जाए और एकजुट ना किया जाए, और तब यह आध्यात्मिक शक्ति बन जाती है। : Ekta ke bina janshakti nahi hai., jab tak use theek tarah se saamanjasya mein na laaya jaaye aur ekjut na kiya jaaye. - सरदार वल्लभ भाई पटेल

जब जनता एक हो जाती है, तब उसके सामने क्रूर से क्रूर शासन भी नहीं टिक सकता। अतः जात-पांत के, ऊँच-नीच के भेदभाव को भुलाकर सब एक हो जाइए - jab janata ek ho jaatee hai, to usake saamane kroor se kroor shaasan bhee tik nahin sakata. atah jaat-pant ke, oonch-neech ke bhedabhaav ko bhulaakar sab ek ho jaay. : सरदार वल्लभ भाई पटेल

जब जनता एक हो जाती है, तब उसके सामने क्रूर से क्रूर शासन भी नहीं टिक सकता। अतः जात-पांत के, ऊँच-नीच के भेदभाव को भुलाकर सब एक हो जाइए। : Jab janata ek ho jaatee hai, to usake saamane kroor se kroor shaasan bhee tik nahin sakata. atah jaat-pant ke, oonch-neech ke bhedabhaav ko bhulaakar sab ek ho jaay. - सरदार वल्लभ भाई पटेल