अपने आनंद से पुनः जुड़ने से महत्त्वपूर्ण और कुछ भी नहीं है। कुछ भी इतना समृद्ध नहीं है।कुछ भी इतना वास्तविक नहीं है - apne aanand se dobara judne se mahatvapurna aur kuchh bhi nahi hai. kuchh bhi itna samriddha nahi, kuchh bhi itnqa vastvik nahi : दीपक चोपड़ा

अपने आनंद से पुनः जुड़ने से महत्त्वपूर्ण और कुछ भी नहीं है। कुछ भी इतना समृद्ध नहीं है।कुछ भी इतना वास्तविक नहीं है। : Apne aanand se dobara judne se mahatvapurna aur kuchh bhi nahi hai. kuchh bhi itna samriddha nahi, kuchh bhi itnqa vastvik nahi - दीपक चोपड़ा

अंहकार, दरअसल वास्‍तविकता में आप नहीं है। अंहकार की आपकी अपनी छवि है। ये आपका सामाजिक मुखौटा है। ये वो पात्र है जो आप खेल रहे हैं। आपका सामाजिक मुखौटा प्रसंशा पर जीता है। वो नियंत्रण चाहता है, सत्ता के दम पर पनपता है क्‍योंकि वो भय में जीता है - ahankar darasal vastavikta me aap nahi. ahankar aapki chhavi hai. yah samajik mukhota hai , yah vo patra hai jo aap khel rahe hain. yah mukhota prasansha par jeeta hai ,niyantran chahta hai, satta ke dum par panpata hai kyonki vah bhay me jeeta hai. : दीपक चोपड़ा

अंहकार, दरअसल वास्‍तविकता में आप नहीं है। अंहकार की आपकी अपनी छवि है। ये आपका सामाजिक मुखौटा है। ये वो पात्र है जो आप खेल रहे हैं। आपका सामाजिक मुखौटा प्रसंशा पर जीता है। वो नियंत्रण चाहता है, सत्ता के दम पर पनपता है क्‍योंकि वो भय में जीता है। : Ahankar darasal vastavikta me aap nahi. ahankar aapki chhavi hai. yah samajik mukhota hai , yah vo patra hai jo aap khel rahe hain. yah mukhota prasansha par jeeta hai ,niyantran chahta hai, satta ke dum par panpata hai kyonki vah bhay me jeeta hai. - दीपक चोपड़ा

स्वभाव रखना है तो एक छोटे से दीपक की तरह रखो यो गरीब की झोंपड़ी में भी उतनी रौशनी देता है जितनी कि एक राजा के महल में देता है - swabhav rakhna hai to ek deepak ki tarah rakho joki gareeb ki jhpdi me bhi utni hi roshni deta hai jitna ki raja ke mahal mein : दीपक चोपड़ा

स्वभाव रखना है तो एक छोटे से दीपक की तरह रखो यो गरीब की झोंपड़ी में भी उतनी रौशनी देता है जितनी कि एक राजा के महल में देता है। : Swabhav rakhna hai to ek deepak ki tarah rakho joki gareeb ki jhpdi me bhi utni hi roshni deta hai jitna ki raja ke mahal mein - दीपक चोपड़ा

यदि आप और मैं इस क्षण किसी के भी विरुद्ध हिंसा या नफरत का विचार ला रहे हैं तो हम दुनिया को घायल करने में योगदान दे रेहे हैं - yadi aap aur main is kshan kisi ke bhi viruddh hinsa ya nafrat ka vichar laa rahe hain to hum is duniya ko ghayal karne me yogdaan de rahe hain. : दीपक चोपड़ा

यदि आप और मैं इस क्षण किसी के भी विरुद्ध हिंसा या नफरत का विचार ला रहे हैं तो हम दुनिया को घायल करने में योगदान दे रेहे हैं। : Yadi aap aur main is kshan kisi ke bhi viruddh hinsa ya nafrat ka vichar laa rahe hain to hum is duniya ko ghayal karne me yogdaan de rahe hain. - दीपक चोपड़ा

ब्रह्माण्ड में कोई भी टुकड़ा अतिरिक्त नहीं है। हर कोई यहाँ इसलिए है क्योंकि उसे कोई जगह भरनी है, हर एक टुकड़े को बड़ी पहेली में फिट होना है - brahmaand me koi bhi tukda atirikt nahi hai. har koi yahan isliye hai kyonki use koi jagah bharni hai. har tukde ko ek badi paheli me fit baithna hai : दीपक चोपड़ा

ब्रह्माण्ड में कोई भी टुकड़ा अतिरिक्त नहीं है। हर कोई यहाँ इसलिए है क्योंकि उसे कोई जगह भरनी है, हर एक टुकड़े को बड़ी पहेली में फिट होना है। : Brahmaand me koi bhi tukda atirikt nahi hai. har koi yahan isliye hai kyonki use koi jagah bharni hai. har tukde ko ek badi paheli me fit baithna hai - दीपक चोपड़ा

हमारी सोच और हमारा व्यवहार हमेशा किसी प्रतिक्रिया की आशा में होते हैं। इसलिए ये डर पर आधारित हैं - hamari soch aur hamara vyavhaar hamesha kisi pratikriya ki aasha me hote hain isliye ye dar par aadharit hote hain. : दीपक चोपड़ा

हमारी सोच और हमारा व्यवहार हमेशा किसी प्रतिक्रिया की आशा में होते हैं। इसलिए ये डर पर आधारित हैं। : Hamari soch aur hamara vyavhaar hamesha kisi pratikriya ki aasha me hote hain isliye ye dar par aadharit hote hain. - दीपक चोपड़ा

अपने शरीर को जानकर एवं विश्वास और जीव विज्ञान के बीच की कड़ी समझ कर आप उम्र बढ़ने से मुक्ति पा सकते हैं - apne shareer ko jaankar evam vishvas aur jeev vigyan ke beech ki kadi samajh kar aap umra badhne se mukti paa sakte hain. : दीपक चोपड़ा

अपने शरीर को जानकर एवं विश्वास और जीव विज्ञान के बीच की कड़ी समझ कर आप उम्र बढ़ने से मुक्ति पा सकते हैं। : Apne shareer ko jaankar evam vishvas aur jeev vigyan ke beech ki kadi samajh kar aap umra badhne se mukti paa sakte hain. - दीपक चोपड़ा