अपने आनंद से पुनः जुड़ने से महत्त्वपूर्ण और कुछ भी नहीं है। कुछ भी इतना समृद्ध नहीं है।कुछ भी इतना वास्तविक नहीं है।

इमेज का डाउनलोड लिंक नीचे दिया गया है

अपने आनंद से पुनः जुड़ने से महत्त्वपूर्ण और कुछ भी नहीं है। कुछ भी इतना समृद्ध नहीं है।कुछ भी इतना वास्तविक नहीं है। : Apne aanand se dobara judne se mahatvapurna aur kuchh bhi nahi hai. kuchh bhi itna samriddha nahi, kuchh bhi itnqa vastvik nahi - दीपक चोपड़ाअपने आनंद से पुनः जुड़ने से महत्त्वपूर्ण और कुछ भी नहीं है। कुछ भी इतना समृद्ध नहीं है।कुछ भी इतना वास्तविक नहीं है। : Apne aanand se dobara judne se mahatvapurna aur kuchh bhi nahi hai. kuchh bhi itna samriddha nahi, kuchh bhi itnqa vastvik nahi - दीपक चोपड़ा

apne aanand se dobara judne se mahatvapurna aur kuchh bhi nahi hai. kuchh bhi itna samriddha nahi, kuchh bhi itnqa vastvik nahi | अपने आनंद से पुनः जुड़ने से महत्त्वपूर्ण और कुछ भी नहीं है। कुछ भी इतना समृद्ध नहीं है।कुछ भी इतना वास्तविक नहीं है।