जितना कम आप अपना ह्रदय दूसरों के समक्ष खोलेंगे , उतनी अधिक आपके ह्रदय को पीड़ा होगी।

रचनाकार :
इमेज का डाउनलोड लिंक नीचे दिया गया है

जितना कम आप अपना ह्रदय दूसरों के समक्ष खोलेंगे , उतनी अधिक आपके ह्रदय को पीड़ा होगी। : Jitna kam aap apna hridaya doosro ke samne kholenge , utni hi adhik aapke hariday ko peeda hogi - दीपक चोपड़ाजितना कम आप अपना ह्रदय दूसरों के समक्ष खोलेंगे , उतनी अधिक आपके ह्रदय को पीड़ा होगी। : Jitna kam aap apna hridaya doosro ke samne kholenge , utni hi adhik aapke hariday ko peeda hogi - दीपक चोपड़ा

Leave A Reply

Your email address will not be published.