प्रेम तो प्रेम है। माता को अपना काना-कुबड़ा बच्चा भी सुंदर लगता है और वह उससे असीम प्रेम करती है - prem to prem hai. maata ko apana kaana-kubada bachcha bhee sundar lagata hai aur vah use aseem prem karatee hai. : सरदार वल्लभ भाई पटेल

प्रेम तो प्रेम है। माता को अपना काना-कुबड़ा बच्चा भी सुंदर लगता है और वह उससे असीम प्रेम करती है। : Prem to prem hai. maata ko apana kaana-kubada bachcha bhee sundar lagata hai aur vah use aseem prem karatee hai. - सरदार वल्लभ भाई पटेल

बच्चों को सीख देने का जो श्रेष्ठ तरीका मुझे पता चला है वह यह है कि बच्चों की चाह का पता लगाया जाए और फिर उन्हें वही करने की सलाह दी जाए - bachho ko seekh dene ka jo shreshtha tareeka mujhe pataa chala hai ki bachcho ki chah ka pata lagaya jaaye aur unhe fir wohi karne ki salaah di jaaye. : हैरी एस. ट्रूमैन

बच्चों को सीख देने का जो श्रेष्ठ तरीका मुझे पता चला है वह यह है कि बच्चों की चाह का पता लगाया जाए और फिर उन्हें वही करने की सलाह दी जाए। :  bachho ko seekh dene ka jo shreshtha tareeka mujhe pataa chala hai ki bachcho ki chah ka pata lagaya jaaye aur unhe fir wohi karne ki salaah di jaaye. - हैरी एस. ट्रूमैन

निरंकुश स्वतंत्रता जहाँ बच्चों के विकास में बाधा बनती है, वहीं कठोर अनुशासन भी उनकी प्रतिभा को कुंठित करता है - nirankush swatantrata jahan bachcho ke vikas me badha banti hai, wahin kathor anushaasan bhi unki pratibha ko kunhit karta hai. : प्रज्ञा सुभाषित

निरंकुश स्वतंत्रता जहाँ बच्चों के विकास में बाधा बनती है, वहीं कठोर अनुशासन भी उनकी प्रतिभा को कुंठित करता है। : Nirankush swatantrata jahan bachcho ke vikas me badha banti hai, wahin kathor anushaasan bhi unki pratibha ko kunhit karta hai. - प्रज्ञा सुभाषित

कभी कभी कक्षा से बंक मारकर मित्रोँ के साथ मस्ती करना अच्छा होता है, क्योंकि आज जब मैं पीछे मुड़कर देखता हूँ तो ये सिर्फ हंसाता ही नहीं है, बल्कि अच्छी यादें भी देता है - kabhi kabhi class se bunk marke mitro k sath masti karna achcha hota hai kyonki aaj jab main peeche mudkar dekhta hu to ye sirf hansata hi nahi balki achhi yaade bhi deta hai. : ए पी जे अब्दुल कलाम

कभी कभी कक्षा से बंक मारकर मित्रोँ के साथ मस्ती करना अच्छा होता है, क्योंकि आज जब मैं पीछे मुड़कर देखता हूँ तो ये सिर्फ हंसाता ही नहीं है, बल्कि अच्छी यादें भी देता है। : Kabhi kabhi class se bunk marke mitro k sath masti karna achcha hota hai kyonki aaj jab main peeche mudkar dekhta hu to ye sirf hansata hi nahi balki achhi yaade bhi deta hai. - ए पी जे अब्दुल कलाम