कभी कभी कक्षा से बंक मारकर मित्रोँ के साथ मस्ती करना अच्छा होता है, क्योंकि आज जब मैं पीछे मुड़कर देखता हूँ तो ये सिर्फ हंसाता ही नहीं है, बल्कि अच्छी यादें भी देता है।

इमेज का डाउनलोड लिंक नीचे दिया गया है

कभी कभी कक्षा से बंक मारकर मित्रोँ के साथ मस्ती करना अच्छा होता है, क्योंकि आज जब मैं पीछे मुड़कर देखता हूँ तो ये सिर्फ हंसाता ही नहीं है, बल्कि अच्छी यादें भी देता है। : Kabhi kabhi class se bunk marke mitro k sath masti karna achcha hota hai kyonki aaj jab main peeche mudkar dekhta hu to ye sirf hansata hi nahi balki achhi yaade bhi deta hai. - ए पी जे अब्दुल कलामकभी कभी कक्षा से बंक मारकर मित्रोँ के साथ मस्ती करना अच्छा होता है, क्योंकि आज जब मैं पीछे मुड़कर देखता हूँ तो ये सिर्फ हंसाता ही नहीं है, बल्कि अच्छी यादें भी देता है। : Kabhi kabhi class se bunk marke mitro k sath masti karna achcha hota hai kyonki aaj jab main peeche mudkar dekhta hu to ye sirf hansata hi nahi balki achhi yaade bhi deta hai. - ए पी जे अब्दुल कलाम

kabhi kabhi class se bunk marke mitro k sath masti karna achcha hota hai kyonki aaj jab main peeche mudkar dekhta hu to ye sirf hansata hi nahi balki achhi yaade bhi deta hai. | कभी कभी कक्षा से बंक मारकर मित्रोँ के साथ मस्ती करना अच्छा होता है, क्योंकि आज जब मैं पीछे मुड़कर देखता हूँ तो ये सिर्फ हंसाता ही नहीं है, बल्कि अच्छी यादें भी देता है।