एक ऐसा क्षण जो इतिहास में बहुत ही कम आता है, जब हम पुराने के छोड़ नए की तरफ जाते हैं , जब एक युग का अंत होता है, और जब वर्षों से शोषित एक देश की आत्मा, अपनी बात कह सकती है - ek aisa kshan jo itihaas mein bahut hee kam aata hai, jab ham puraane ke chhod nae kee taraph jaate hain, jab ek yug ka ant hota hai, aur jab saalon se shoshit ek desh kee aatma, apanee baat kah sakatee hai. : जवाहरलाल नेहरू

एक ऐसा क्षण जो इतिहास में बहुत ही कम आता है, जब हम पुराने के छोड़ नए की तरफ जाते हैं , जब एक युग का अंत होता है, और जब वर्षों से शोषित एक देश की आत्मा, अपनी बात कह सकती है। : Ek aisa kshan jo itihaas mein bahut hee kam aata hai, jab ham puraane ke chhod nae kee taraph jaate hain, jab ek yug ka ant hota hai, aur jab saalon se shoshit ek desh kee aatma, apanee baat kah sakatee hai. - जवाहरलाल नेहरू

एक नेता या कर्मठ व्यक्ति संकट के समय लगभग हमेशा ही अवचेतन रूप में कार्य करता है और फिर अपने किये गए कार्यों के लिए तर्क सोचता है - ek neta ya karmath vyakti paristhiti ke samay lagabhag hamesha hee avachetan roop mein kaary karata hai aur phir apane kie gae kaaryon ke lie tarkasheelata ko sveekaar karata hai. : जवाहरलाल नेहरू

एक नेता या कर्मठ व्यक्ति संकट के समय लगभग हमेशा ही अवचेतन रूप में कार्य करता है और फिर अपने किये गए कार्यों के लिए तर्क सोचता है। : Ek neta ya karmath vyakti paristhiti ke samay lagabhag hamesha hee avachetan roop mein kaary karata hai aur phir apane kie gae kaaryon ke lie tarkasheelata ko sveekaar karata hai. - जवाहरलाल नेहरू