एक ज़माना ऐसा भी आएगा कि लोग अपने रब को भुल जाएंगे,लिबास बहुत क़ीमती पहन कर बज़ार में अकड़ कर चलेंगे और इस बात से बेखबर होंगे के उसी बाज़ार में उन का कफन मौजूद है - ek zamana aisa bhi ayega ki log apne rab ko bhul jayenge, libaas bahut kimati pahan kar bazaar mein akadkar chalenge aur is baat se bekhabar honge ke usi baazaar mein unka kafan maujood hai. : हजरत अली

एक ज़माना ऐसा भी आएगा कि लोग अपने रब को भुल जाएंगे,लिबास बहुत क़ीमती पहन कर बज़ार में अकड़ कर चलेंगे और इस बात से बेखबर होंगे के उसी बाज़ार में उन का कफन मौजूद है । : Ek zamana aisa bhi ayega ki log apne rab ko bhul jayenge, libaas bahut kimati pahan kar bazaar mein akadkar chalenge aur is baat se bekhabar honge ke usi baazaar mein unka kafan maujood hai. - हजरत अली

निहित स्वार्थों को तब तक स्वेच्छा से नहीं छोड़ा गया है जब तक कि मजबूर करने के लिए पर्याप्त बल ना लगाया गया हो - nihit svaarthon ko tab tak svechchha se nahin chhoda gaya hai jab tak ki majaboor karane ke lie paryaapt bal na lagaaya gaya ho. : डॉ॰ बी॰ आर॰ अम्बेडकर

निहित स्वार्थों को तब तक स्वेच्छा से नहीं छोड़ा गया है जब तक कि मजबूर करने के लिए पर्याप्त बल ना लगाया गया हो। : Nihit svaarthon ko tab tak svechchha se nahin chhoda gaya hai jab tak ki majaboor karane ke lie paryaapt bal na lagaaya gaya ho. - डॉ॰ बी॰ आर॰ अम्बेडकर

भाग्य से ज्यादा अपने आप पर विश्वास करो। भाग्य में विश्वास रखने के बजाय शक्ति और कर्म में विश्वास रखना चाहिए - bhaagy se jyaada aap apane aap par vishvaas karate hain. bhaagy mein vishvaas rakhane ke bajaay shakti aur karm mein vishvaas rakhana chaahie. : डॉ॰ बी॰ आर॰ अम्बेडकर

भाग्य से ज्यादा अपने आप पर विश्वास करो। भाग्य में विश्वास रखने के बजाय शक्ति और कर्म में विश्वास रखना चाहिए। : Bhaagy se jyaada aap apane aap par vishvaas karate hain. bhaagy mein vishvaas rakhane ke bajaay shakti aur karm mein vishvaas rakhana chaahie. - डॉ॰ बी॰ आर॰ अम्बेडकर

हम उपनिवेशवाद और साम्राज्यवाद के अंत के लिए पूर्ण समर्थन देना अपना नैतिक कर्तव्य समझेंगे, ताकि हर जगह लोग अपने भाग्यनिर्माण के लिए स्वतंत्र हों - ham upaniveshavaad aur saamraajyavaad ke ant ke lie poorn samarthan dete hain apanee naitikata ko samajhenge, taaki har jagah log apane bhaagy prograaming ke svatantr roop se hon. : लाल बहादुर शास्त्री

हम उपनिवेशवाद और साम्राज्यवाद के अंत के लिए पूर्ण समर्थन देना अपना नैतिक कर्तव्य समझेंगे, ताकि हर जगह लोग अपने भाग्यनिर्माण के लिए स्वतंत्र हों। : Ham upaniveshavaad aur saamraajyavaad ke ant ke lie poorn samarthan dete hain apanee naitikata ko samajhenge, taaki har jagah log apane bhaagy prograaming ke svatantr roop se hon. - लाल बहादुर शास्त्री

मुझे ग्रामीण क्षेत्रों में एक मामूली कार्यकर्ता के रूप में लगभग पचास वर्ष तक कार्य करना पड़ा है, इसलिए मेरा ध्यान स्वत: ही उन लोगों की ओर तथा उन क्षेत्रों के हालात पर चला जाता है - mujhe graameen kshetron mein ek maamoolee kaaryakarta ke roop mein lagabhag pachaas varsh tak kaary karana pada hai, isalie mera dhyaan svatah: keval un logon kee or aur un kshetron ke haalaat par chala jaata hai. : लाल बहादुर शास्त्री

मुझे ग्रामीण क्षेत्रों में एक मामूली कार्यकर्ता के रूप में लगभग पचास वर्ष तक कार्य करना पड़ा है, इसलिए मेरा ध्यान स्वत: ही उन लोगों की ओर तथा उन क्षेत्रों के हालात पर चला जाता है। : Mujhe graameen kshetron mein ek maamoolee kaaryakarta ke roop mein lagabhag pachaas varsh tak kaary karana pada hai, isalie mera dhyaan svatah: keval un logon kee or aur un kshetron ke haalaat par chala jaata hai. - लाल बहादुर शास्त्री