निहित स्वार्थों को तब तक स्वेच्छा से नहीं छोड़ा गया है जब तक कि मजबूर करने के लिए पर्याप्त बल ना लगाया गया हो - nihit svaarthon ko tab tak svechchha se nahin chhoda gaya hai jab tak ki majaboor karane ke lie paryaapt bal na lagaaya gaya ho. : डॉ॰ बी॰ आर॰ अम्बेडकर

निहित स्वार्थों को तब तक स्वेच्छा से नहीं छोड़ा गया है जब तक कि मजबूर करने के लिए पर्याप्त बल ना लगाया गया हो। : Nihit svaarthon ko tab tak svechchha se nahin chhoda gaya hai jab tak ki majaboor karane ke lie paryaapt bal na lagaaya gaya ho. - डॉ॰ बी॰ आर॰ अम्बेडकर

भाग्य से ज्यादा अपने आप पर विश्वास करो। भाग्य में विश्वास रखने के बजाय शक्ति और कर्म में विश्वास रखना चाहिए - bhaagy se jyaada aap apane aap par vishvaas karate hain. bhaagy mein vishvaas rakhane ke bajaay shakti aur karm mein vishvaas rakhana chaahie. : डॉ॰ बी॰ आर॰ अम्बेडकर

भाग्य से ज्यादा अपने आप पर विश्वास करो। भाग्य में विश्वास रखने के बजाय शक्ति और कर्म में विश्वास रखना चाहिए। : Bhaagy se jyaada aap apane aap par vishvaas karate hain. bhaagy mein vishvaas rakhane ke bajaay shakti aur karm mein vishvaas rakhana chaahie. - डॉ॰ बी॰ आर॰ अम्बेडकर

हम उपनिवेशवाद और साम्राज्यवाद के अंत के लिए पूर्ण समर्थन देना अपना नैतिक कर्तव्य समझेंगे, ताकि हर जगह लोग अपने भाग्यनिर्माण के लिए स्वतंत्र हों - ham upaniveshavaad aur saamraajyavaad ke ant ke lie poorn samarthan dete hain apanee naitikata ko samajhenge, taaki har jagah log apane bhaagy prograaming ke svatantr roop se hon. : लाल बहादुर शास्त्री

हम उपनिवेशवाद और साम्राज्यवाद के अंत के लिए पूर्ण समर्थन देना अपना नैतिक कर्तव्य समझेंगे, ताकि हर जगह लोग अपने भाग्यनिर्माण के लिए स्वतंत्र हों। : Ham upaniveshavaad aur saamraajyavaad ke ant ke lie poorn samarthan dete hain apanee naitikata ko samajhenge, taaki har jagah log apane bhaagy prograaming ke svatantr roop se hon. - लाल बहादुर शास्त्री

मुझे ग्रामीण क्षेत्रों में एक मामूली कार्यकर्ता के रूप में लगभग पचास वर्ष तक कार्य करना पड़ा है, इसलिए मेरा ध्यान स्वत: ही उन लोगों की ओर तथा उन क्षेत्रों के हालात पर चला जाता है - mujhe graameen kshetron mein ek maamoolee kaaryakarta ke roop mein lagabhag pachaas varsh tak kaary karana pada hai, isalie mera dhyaan svatah: keval un logon kee or aur un kshetron ke haalaat par chala jaata hai. : लाल बहादुर शास्त्री

मुझे ग्रामीण क्षेत्रों में एक मामूली कार्यकर्ता के रूप में लगभग पचास वर्ष तक कार्य करना पड़ा है, इसलिए मेरा ध्यान स्वत: ही उन लोगों की ओर तथा उन क्षेत्रों के हालात पर चला जाता है। : Mujhe graameen kshetron mein ek maamoolee kaaryakarta ke roop mein lagabhag pachaas varsh tak kaary karana pada hai, isalie mera dhyaan svatah: keval un logon kee or aur un kshetron ke haalaat par chala jaata hai. - लाल बहादुर शास्त्री

मेरी समझ से प्रशासन का मूल विचार यह है कि समाज को एकजुट रखा जाये ताकि वह विकास कर सके और अपने लक्ष्‍यों की तरफ बढ़ सके - meree samajh se prashaasan ka mool vichaar yah hai ki samaaj ko ekajut rakhana chaahie taaki vah vikaas kar sake aur apane lakshon kee taraph badh sake. : लाल बहादुर शास्त्री

मेरी समझ से प्रशासन का मूल विचार यह है कि समाज को एकजुट रखा जाये ताकि वह विकास कर सके और अपने लक्ष्‍यों की तरफ बढ़ सके। : Meree samajh se prashaasan ka mool vichaar yah hai ki samaaj ko ekajut rakhana chaahie taaki vah vikaas kar sake aur apane lakshon kee taraph badh sake. - लाल बहादुर शास्त्री

हमें एक साथ मिलकर किसी भी प्रकार के अपेक्षित बलिदान के लिए दृढ़तापूर्वक तत्पर रहना है - hamen ek saath milakar kisee bhee prakaar ke vistaar balidaan ke lie drdhata se aapaka svaagat hai. : लाल बहादुर शास्त्री

हमें एक साथ मिलकर किसी भी प्रकार के अपेक्षित बलिदान के लिए दृढ़तापूर्वक तत्पर रहना है। : Hamen ek saath milakar kisee bhee prakaar ke vistaar balidaan ke lie drdhata se aapaka svaagat hai. - लाल बहादुर शास्त्री