आपकी आत्मा से परे कोई भी शत्रु नहीं है। असली शत्रु आपके भीतर रहते हैं, वो शत्रु हैं क्रोध, घमंड, लालच,आसक्ति और नफरत - aapki aatma se pare koi bhi shatru nahi hai. asli shatru aapke bheetr rahte hain , ve shatru hain - krodh, ghamand, laalach, aasakti aur nafrat. : महावीर स्वामी

आपकी आत्मा से परे कोई भी शत्रु नहीं है। असली शत्रु आपके भीतर रहते हैं, वो शत्रु हैं क्रोध, घमंड, लालच,आसक्ति और नफरत। : Aapki aatma se pare koi bhi shatru nahi hai. asli shatru aapke bheetr rahte hain , ve shatru hain - krodh, ghamand, laalach, aasakti aur nafrat. - महावीर स्वामी