मैं इस आसान धर्म में विश्वास रखता हूं। मन्दिरों की कोई आवश्यकता नहीं; जटिल दर्शनशास्त्र की कोई आवश्यकता नहीं। हमारा मस्तिष्क, हमारा हृदय ही हमारा मन्दिर है; और दयालुता जीवन-दर्शन है - main is aasan dharm mein vihswas rakhta hu.mandiro ki koi avshyakata nahi, jatil darshanshastra ki koi avashyakta nahi. hamara mastishk hamara mandir aur dayaluta jeevan darshan hai. : दलाई लामा

मैं इस आसान धर्म में विश्वास रखता हूं। मन्दिरों की कोई आवश्यकता नहीं; जटिल दर्शनशास्त्र की कोई आवश्यकता नहीं। हमारा मस्तिष्क, हमारा हृदय ही हमारा मन्दिर है; और दयालुता जीवन-दर्शन है। : Main is aasan dharm mein vihswas rakhta hu.mandiro ki koi avshyakata nahi, jatil darshanshastra ki koi avashyakta nahi. hamara mastishk hamara mandir aur dayaluta jeevan darshan hai. - दलाई लामा

यदि आप दूसरों को प्रसन्न देखना चाहते हैं तो करुणा का भाव रखें. यदि आप स्वयं प्रसन्न रहना चाहते हैं तो भी करुणा का भाव रखें - yadi aap dusro ko prasanna dekhna chahte hain to karuna ka bhav rakhen aur yadi aap swayam prasanna rahna chahte hain to bhi karuna ka bhav rakhein : दलाई लामा

यदि आप दूसरों को प्रसन्न देखना चाहते हैं तो करुणा का भाव रखें. यदि आप स्वयं प्रसन्न रहना चाहते हैं तो भी करुणा का भाव रखें। : Yadi aap dusro ko prasanna dekhna chahte hain to karuna ka bhav rakhen aur yadi aap swayam prasanna rahna chahte hain to bhi karuna ka bhav rakhein - दलाई लामा