जीवन हमें जो ताश के पत्ते देता हैं, उन्हे हर खिलाड़ी को स्वीकार करना पड़ता हैं, लेकिन जब पत्ते हाथ में आ जावे तो खिलाड़ी को यह तय करना होता हैं कि वह उन पत्तों को किस तरह खेलें, ताकि वह बाजी जीत सके - jeevan hamen jo taash ke patte deta hain, unhe har khilaadi ko swikaar karna padta hain, lekin jab patte haath mein aa jaave to khilaadi ko yah tay karna hota hain ki vah un patton ko kis tarah khelen, taaki vah baazi jeet sake. : वोल्टेयर

जीवन हमें जो ताश के पत्ते देता हैं, उन्हे हर खिलाड़ी को स्वीकार करना पड़ता हैं, लेकिन जब पत्ते हाथ में आ जावे तो खिलाड़ी को यह तय करना होता हैं कि वह उन पत्तों को किस तरह खेलें, ताकि वह बाजी जीत सके। : Jeevan hamen jo taash ke patte deta hain, unhe har khilaadi ko swikaar karna padta hain, lekin jab patte haath mein aa jaave to khilaadi ko yah tay karna hota hain ki vah un patton ko kis tarah khelen, taaki vah baazi jeet sake. - वोल्टेयर

किसी की निंदा ना करें। अगर आप मदद के लिए हाथ बढ़ा सकते हैं, तो ज़रुर बढाएं। अगर नहीं बढ़ा सकते, तो अपने हाथ जोड़िये, अपने भाइयों को आशीर्वाद दीजिये और उन्हें उनके मार्ग पे जाने दीजिये - kisee kee ninda na karen. agar aap madad ke lie haath utha sakate hain, to zaroor badhaen hain. agar nahin utha sakate, to apane haath jodiye, apane sainikon ko aasheervaad den aur unhen unake maarg pe jaane den. : स्वामी विवेकानन्द