हो सकता है ये भगवान की मर्जी हो कि मैं जिस वजह का प्रतिनिधित्व करता हूँ उसे मेरे आजाद रहने से ज्यादा मेरे पीड़ा में होने से अधिक लाभ मिले - ho sakta hai ye bhagwan ki marzi ho ki main jis vajah se pratinidhitva karta hu use mere aazad rahne se jyada mere peeda me rahnese adhiklaabh mile. : बाल गंगाधर तिलक

हो सकता है ये भगवान की मर्जी हो कि मैं जिस वजह का प्रतिनिधित्व करता हूँ उसे मेरे आजाद रहने से ज्यादा मेरे पीड़ा में होने से अधिक लाभ मिले। : Ho sakta hai ye bhagwan ki marzi ho ki main jis vajah se pratinidhitva karta hu use mere aazad rahne se jyada mere peeda me rahnese adhiklaabh mile. - बाल गंगाधर तिलक

भूविज्ञानी पृथ्वी का इतिहास वहां से उठाते हैं जहाँ से पुरातत्वविद् इसे छोड़ देते हैं, और उसे और भी पुरातनता में ले जाते हैं - bhoo-vigyani prithvi ka itihaas wahan se uthaate hain jahan se puratatva-vid use chhod dete hain aur use bhi puratanta meinle jaate hain. : बाल गंगाधर तिलक

भूविज्ञानी पृथ्वी का इतिहास वहां से उठाते हैं जहाँ से पुरातत्वविद् इसे छोड़ देते हैं, और उसे और भी पुरातनता में ले जाते हैं। : Bhoo-vigyani prithvi ka itihaas wahan se uthaate hain jahan se puratatva-vid use chhod dete hain aur use bhi puratanta meinle jaate hain. - बाल गंगाधर तिलक

अपने हितों की रक्षा के लिए यदि हम स्वयं जागरूक नहीं होंगे तो दूसरा कोन होगा ? हमे इस समय सोना नहीं चाहिये ,हमे अपने लक्ष्य की पूर्ति के लिए प्रयत्न करना चाहिये - apne hit ki raksha ke liye yadi hum swayam jaagruk nahin honge to doosra kaun hoga? humein is samay sona hain hai balki apne lakshya ki prapti ke liye prayatna karne chahiye : बाल गंगाधर तिलक

अपने हितों की रक्षा के लिए यदि हम स्वयं जागरूक नहीं होंगे तो दूसरा कोन होगा ? हमे इस समय सोना नहीं चाहिये ,हमे अपने लक्ष्य की पूर्ति के लिए प्रयत्न करना चाहिये। : Apne hit ki raksha ke liye yadi hum swayam jaagruk nahin honge to doosra kaun hoga? humein is samay sona hain hai balki apne lakshya ki prapti ke liye prayatna karne chahiye - बाल गंगाधर तिलक