कायर मृत्यु से पूर्व अनेकों बार मर चुकता है, जबकि बहादुर को मरने के दिन ही मरना पड़ता है।

इमेज का डाउनलोड लिंक नीचे दिया गया है

कायर मृत्यु से पूर्व अनेकों बार मर चुकता है, जबकि बहादुर को मरने के दिन ही मरना पड़ता है। : Kayar mrityu se poorva aneko baar marta hai jabki bahadur ko marne ke din hi marna padta hai - प्रज्ञा सुभाषितकायर मृत्यु से पूर्व अनेकों बार मर चुकता है, जबकि बहादुर को मरने के दिन ही मरना पड़ता है। : Kayar mrityu se poorva aneko baar marta hai jabki bahadur ko marne ke din hi marna padta hai - प्रज्ञा सुभाषित

kayar mrityu se poorva aneko baar marta hai jabki bahadur ko marne ke din hi marna padta hai | कायर मृत्यु से पूर्व अनेकों बार मर चुकता है, जबकि बहादुर को मरने के दिन ही मरना पड़ता है।