दुःख उठाने के कारण प्राय: हममें कटुता आ जाती है, द्रष्टि संकुचित हो जाती है और हम स्वार्थी तथा दूसरों की कमियों के प्रति असहिष्णु बन जाते हैं - duhkh uthaane ke kaaran sambhaavana: hamamen katuta aa jaatee hai, drashti sankuchit ho jaatee hai aur ham svaarthee aur doosaron kee kamiyon ke prati asahishnu ban jaate hain. : सरदार वल्लभ भाई पटेल

दुःख उठाने के कारण प्राय: हममें कटुता आ जाती है, द्रष्टि संकुचित हो जाती है और हम स्वार्थी तथा दूसरों की कमियों के प्रति असहिष्णु बन जाते हैं। : Duhkh uthaane ke kaaran sambhaavana: hamamen katuta aa jaatee hai, drashti sankuchit ho jaatee hai aur ham svaarthee aur doosaron kee kamiyon ke prati asahishnu ban jaate hain. - सरदार वल्लभ भाई पटेल

सत्ताधीशों की सत्ता उनकी मृत्यु के साथ ही समाप्त हो जाती है, पर महान देशभक्तों की सत्ता मरने के बाद काम करती है, अतः देशभक्ति अर्थात् देश-सेवा में जो मिठास है, वह और किसी चीज में नहीं - sattaadheeshon kee satta unakee mrtyu ke saath hee samaapt ho jaatee hai, par mahaan deshabhakton kee satta marane ke baad kaam karatee hai, atah deshabhakti arthaat desh-seva mein jo mithaas hai, vah aur kisee cheej mein nahin। : सरदार वल्लभ भाई पटेल

सत्ताधीशों की सत्ता उनकी मृत्यु के साथ ही समाप्त हो जाती है, पर महान देशभक्तों की सत्ता मरने के बाद काम करती है, अतः देशभक्ति अर्थात् देश-सेवा में जो मिठास है, वह और किसी चीज में नहीं। : Sattaadheeshon kee satta unakee mrtyu ke saath hee samaapt ho jaatee hai, par mahaan deshabhakton kee satta marane ke baad kaam karatee hai, atah deshabhakti arthaat desh-seva mein jo mithaas hai, vah aur kisee cheej mein nahin। - सरदार वल्लभ भाई पटेल