बोधविचार - प्रेरक, ज्ञानपूर्ण व बेहतरीन विचारों का संग्रह

जब दूसरे व्यक्ति सोए हों, तो उस समय अध्ययन करें; उस समय कार्य करें जब दूसरे व्यक्ति अपने समय को नष्ट करते हैं; उस समय तैयारी करें जब दूसरे खेल रहे हों; और उस समय सपने देखें जब दूसरे केवल कामना ही कर रहे हों - jab doosre vyakti soye ho to us samay adhyayan karein, us samay karya karein jab doosre apna samay nashta karte hain, us samay taiyari karein jab doosre khel rahe ho, aur us samay swapna dekhein jab dooosre keval kaamna kar rahe ho. : विलियम ऑर्थर वार्ड

जब दूसरे व्यक्ति सोए हों, तो उस समय अध्ययन करें; उस समय कार्य करें जब दूसरे व्यक्ति अपने समय को नष्ट करते हैं; उस समय तैयारी करें जब दूसरे खेल रहे हों; और उस समय सपने देखें जब दूसरे केवल कामना ही कर रहे हों। : Jab doosre vyakti soye ho to us samay adhyayan karein, us samay karya karein jab doosre apna samay nashta karte hain, us samay taiyari karein jab doosre khel rahe ho, aur us samay swapna dekhein jab dooosre keval kaamna kar rahe ho. - विलियम ऑर्थर वार्ड

जिसे और लोग विफलता का नाम देने या कहने की कोशिश करते हैं, मैंने सीखा है कि वो बस भगवान् का आपको नयी दिशा में भेजने का तरीका है - jise aur log vifalta ka naam dene ya kehne ki koshish karte hain, maine seekha hai ki wo bas bhagvan ka aapko nayi disha me bhejne ka tareeka hai : अज्ञात

जिसे और लोग विफलता का नाम देने या कहने की कोशिश करते हैं, मैंने सीखा है कि वो बस भगवान् का आपको नयी दिशा में भेजने का तरीका है। : Jise aur log vifalta ka naam dene ya kehne ki koshish karte hain, maine seekha hai ki wo bas bhagvan ka aapko nayi disha me bhejne ka tareeka hai - अज्ञात

आत्मबल के आधार पर खड़े रहने को ही स्वराज कहते हैं - aatmabal ke aadhaar par khade rahane ko hee svaraaj kahate hain. : सरदार वल्लभ भाई पटेल

आत्मबल के आधार पर खड़े रहने को ही स्वराज कहते हैं। : Aatmabal ke aadhaar par khade rahane ko hee svaraaj kahate hain. - सरदार वल्लभ भाई पटेल

आप अपने को जैसा सोचेंगे, आप वैसे ही बन जाएंगे। यदि आप स्वयं को कमजोर मानते हैं तो आप कमजोर ही होंगे। और यदि आप स्वयं को मजबूत सोचते हैं तो आप मजबूत हो जाएंगे - tum apane ko jaisa sochoge, tum vaise hee ban jaoge. yadi aap svayan ko kamajor maanate hain to aap kamajor hee honge. aur yadi aap svayan ko majaboot sochate hain to aap majaboot ho jaenge. : स्वामी विवेकानन्द

आप अपने को जैसा सोचेंगे, आप वैसे ही बन जाएंगे। यदि आप स्वयं को कमजोर मानते हैं तो आप कमजोर ही होंगे। और यदि आप स्वयं को मजबूत सोचते हैं तो आप मजबूत हो जाएंगे। : Tum apane ko jaisa sochoge, tum vaise hee ban jaoge. yadi aap svayan ko kamajor maanate hain to aap kamajor hee honge. aur yadi aap svayan ko majaboot sochate hain to aap majaboot ho jaenge. - स्वामी विवेकानन्द

हमारे जीवन का उस दिन अंत होना शुरू हो जाता है जिस दिन हम उन विषयों के बारे में चुप रहना शुरू कर देते हैं जो मायने रखते हैं - hamare jeevan ka ant us din shuru ho jaata hai jis din hum un vishayon ke baare me chup rahna shuru kar dete hai jo maayne rakhte hain. : मार्टिन लुथर किंग - जूनियर

हमारे जीवन का उस दिन अंत होना शुरू हो जाता है जिस दिन हम उन विषयों के बारे में चुप रहना शुरू कर देते हैं जो मायने रखते हैं। : Hamare jeevan ka ant us din shuru ho jaata hai jis din hum un vishayon ke baare me chup rahna shuru kar dete hai jo maayne rakhte hain. - मार्टिन लुथर किंग - जूनियर