बोधविचार - प्रेरक, ज्ञानपूर्ण व बेहतरीन विचारों का संग्रह

जब तक मनुष्य के जीवन में सुख – दुख नहीं आएगा तब तक मनुष्य को यह एहसास कैसे होगा कि जीवन में क्या सही है? और क्या गलत है? - jab tak manushy ke jeevan mein sukh - dukh nahin hoga tab tak manushy ko yah ehasaas hoga ki jeevan kaise hoga? aur kya galat hai? : स्वामी विवेकानन्द

जब तक मनुष्य के जीवन में सुख – दुख नहीं आएगा तब तक मनुष्य को यह एहसास कैसे होगा कि जीवन में क्या सही है? और क्या गलत है? : Jab tak manushy ke jeevan mein sukh - dukh nahin hoga tab tak manushy ko yah ehasaas hoga ki jeevan kaise hoga? aur kya galat hai? - स्वामी विवेकानन्द