मौत प्रकाश को ख़त्म करना नहीं है; ये सिर्फ दीपक को बुझाना है क्योंकि सुबह हो गयी है।

इमेज का डाउनलोड लिंक नीचे दिया गया है

मौत प्रकाश को ख़त्म करना नहीं है; ये सिर्फ दीपक को बुझाना है क्योंकि सुबह हो गयी है। : Maut praash ko khtam karna nahi hai, ye sirf deepka ko bujhana hai kyonki subah ho gyi hai. - रवीन्द्रनाथ टैगोरमौत प्रकाश को ख़त्म करना नहीं है; ये सिर्फ दीपक को बुझाना है क्योंकि सुबह हो गयी है। : Maut praash ko khtam karna nahi hai, ye sirf deepka ko bujhana hai kyonki subah ho gyi hai. - रवीन्द्रनाथ टैगोर

maut praash ko khtam karna nahi hai, ye sirf deepka ko bujhana hai kyonki subah ho gyi hai. | मौत प्रकाश को ख़त्म करना नहीं है; ये सिर्फ दीपक को बुझाना है क्योंकि सुबह हो गयी है।