पढ़ने के लिए जरूरी है एकाग्रता। एकाग्रता के लिए जरूरी है ध्यान। ध्यान से ही हम इन्द्रियों पर संयम रखकर एकाग्रता प्राप्त कर सकते है।

इमेज का डाउनलोड लिंक नीचे दिया गया है

पढ़ने के लिए जरूरी है एकाग्रता। एकाग्रता के लिए जरूरी है ध्यान। ध्यान से ही हम इन्द्रियों पर संयम रखकर एकाग्रता प्राप्त कर सकते है। : Padhana ke lie aavashyak haisis. ekaagrata ke lie aavashyak dhyaan hai. dhyaan se hee ham indriyon par sanyam rakhane kee praapti praapt kar sakate hai. - स्वामी विवेकानन्दपढ़ने के लिए जरूरी है एकाग्रता। एकाग्रता के लिए जरूरी है ध्यान। ध्यान से ही हम इन्द्रियों पर संयम रखकर एकाग्रता प्राप्त कर सकते है। : Padhana ke lie aavashyak haisis. ekaagrata ke lie aavashyak dhyaan hai. dhyaan se hee ham indriyon par sanyam rakhane kee praapti praapt kar sakate hai. - स्वामी विवेकानन्द

padhana ke lie aavashyak haisis. ekaagrata ke lie aavashyak dhyaan hai. dhyaan se hee ham indriyon par sanyam rakhane kee praapti praapt kar sakate hai. | पढ़ने के लिए जरूरी है एकाग्रता। एकाग्रता के लिए जरूरी है ध्यान। ध्यान से ही हम इन्द्रियों पर संयम रखकर एकाग्रता प्राप्त कर सकते है।