हम उपनिवेशवाद और साम्राज्यवाद के अंत के लिए पूर्ण समर्थन देना अपना नैतिक कर्तव्य समझेंगे, ताकि हर जगह लोग अपने भाग्यनिर्माण के लिए स्वतंत्र हों।

इमेज का डाउनलोड लिंक नीचे दिया गया है

हम उपनिवेशवाद और साम्राज्यवाद के अंत के लिए पूर्ण समर्थन देना अपना नैतिक कर्तव्य समझेंगे, ताकि हर जगह लोग अपने भाग्यनिर्माण के लिए स्वतंत्र हों। : Ham upaniveshavaad aur saamraajyavaad ke ant ke lie poorn samarthan dete hain apanee naitikata ko samajhenge, taaki har jagah log apane bhaagy prograaming ke svatantr roop se hon. - लाल बहादुर शास्त्रीहम उपनिवेशवाद और साम्राज्यवाद के अंत के लिए पूर्ण समर्थन देना अपना नैतिक कर्तव्य समझेंगे, ताकि हर जगह लोग अपने भाग्यनिर्माण के लिए स्वतंत्र हों। : Ham upaniveshavaad aur saamraajyavaad ke ant ke lie poorn samarthan dete hain apanee naitikata ko samajhenge, taaki har jagah log apane bhaagy prograaming ke svatantr roop se hon. - लाल बहादुर शास्त्री

ham upaniveshavaad aur saamraajyavaad ke ant ke lie poorn samarthan dete hain apanee naitikata ko samajhenge, taaki har jagah log apane bhaagy prograaming ke svatantr roop se hon. | हम उपनिवेशवाद और साम्राज्यवाद के अंत के लिए पूर्ण समर्थन देना अपना नैतिक कर्तव्य समझेंगे, ताकि हर जगह लोग अपने भाग्यनिर्माण के लिए स्वतंत्र हों।