हमारी संपत्ति हर शाम दरवाजे से बाहर निकलती है। हमें सुनिश्चित करना होगा कि वो अगली सुबह वापस आ जाए।

इमेज का डाउनलोड लिंक नीचे दिया गया है

हमारी संपत्ति हर शाम दरवाजे से बाहर निकलती है। हमें सुनिश्चित करना होगा कि वो अगली सुबह वापस आ जाए। : Hamari sampatti har shaam darwaje ke bahar nikalati hai. hame yah sunishchit karna hai ki vah agli sunah vapas laut aaye. - नागवार रामाराव नारायण मूर्तिहमारी संपत्ति हर शाम दरवाजे से बाहर निकलती है। हमें सुनिश्चित करना होगा कि वो अगली सुबह वापस आ जाए। : Hamari sampatti har shaam darwaje ke bahar nikalati hai. hame yah sunishchit karna hai ki vah agli sunah vapas laut aaye. - नागवार रामाराव नारायण मूर्ति

hamari sampatti har shaam darwaje ke bahar nikalati hai. hame yah sunishchit karna hai ki vah agli sunah vapas laut aaye. | हमारी संपत्ति हर शाम दरवाजे से बाहर निकलती है। हमें सुनिश्चित करना होगा कि वो अगली सुबह वापस आ जाए।