हम आमोद-प्रमोद मनाते चलें और आस-पास का समाज आँसुओं से भीगता रहे, ऐसी हमारी हँसी-खुशी को धिक्कार है।

इमेज का डाउनलोड लिंक नीचे दिया गया है

हम आमोद-प्रमोद मनाते चलें और आस-पास का समाज आँसुओं से भीगता रहे, ऐसी हमारी हँसी-खुशी को धिक्कार है। : Hum aamod pramod manate chalein aur aas paas ka samaj aansuo se bheegta rahe, esi hamari hasi khushu ko dhikkar hai. - प्रज्ञा सुभाषितहम आमोद-प्रमोद मनाते चलें और आस-पास का समाज आँसुओं से भीगता रहे, ऐसी हमारी हँसी-खुशी को धिक्कार है। : Hum aamod pramod manate chalein aur aas paas ka samaj aansuo se bheegta rahe, esi hamari hasi khushu ko dhikkar hai. - प्रज्ञा सुभाषित

hum aamod pramod manate chalein aur aas paas ka samaj aansuo se bheegta rahe, esi hamari hasi khushu ko dhikkar hai. | हम आमोद-प्रमोद मनाते चलें और आस-पास का समाज आँसुओं से भीगता रहे, ऐसी हमारी हँसी-खुशी को धिक्कार है।