जब तक मनुष्य का लक्ष्य भोग रहेगा, तब तक पाप की जड़ें भी विकसित होती रहेंगी।

इमेज का डाउनलोड लिंक नीचे दिया गया है

जब तक मनुष्य का लक्ष्य भोग रहेगा, तब तक पाप की जड़ें भी विकसित होती रहेंगी। : Jab tak manushya ka lakshya bhog rahega tab tak paap ki jadein bhi viksit hoti rahengi. - प्रज्ञा सुभाषितजब तक मनुष्य का लक्ष्य भोग रहेगा, तब तक पाप की जड़ें भी विकसित होती रहेंगी। : Jab tak manushya ka lakshya bhog rahega tab tak paap ki jadein bhi viksit hoti rahengi. - प्रज्ञा सुभाषित

jab tak manushya ka lakshya bhog rahega tab tak paap ki jadein bhi viksit hoti rahengi. | जब तक मनुष्य का लक्ष्य भोग रहेगा, तब तक पाप की जड़ें भी विकसित होती रहेंगी।