मनुष्यता सबसे अधिक मूल्यवान् है। उसकी रक्षा करना प्रत्येक जागरूक व्यक्ति का परम कर्तव्य है।

इमेज का डाउनलोड लिंक नीचे दिया गया है

मनुष्यता सबसे अधिक मूल्यवान् है। उसकी रक्षा करना प्रत्येक जागरूक व्यक्ति का परम कर्तव्य है। : Manushyata sabse adhik mulyawaan hai uski raksha karna pratyek jaagruk insaan ka param kartavya hai. - प्रज्ञा सुभाषितमनुष्यता सबसे अधिक मूल्यवान् है। उसकी रक्षा करना प्रत्येक जागरूक व्यक्ति का परम कर्तव्य है। : Manushyata sabse adhik mulyawaan hai uski raksha karna pratyek jaagruk insaan ka param kartavya hai. - प्रज्ञा सुभाषित

manushyata sabse adhik mulyawaan hai uski raksha karna pratyek jaagruk insaan ka param kartavya hai. | मनुष्यता सबसे अधिक मूल्यवान् है। उसकी रक्षा करना प्रत्येक जागरूक व्यक्ति का परम कर्तव्य है।