नेतृत्व का अर्थ है वह वर्चस्व जिसके सहारे परिचितों और अपरिचितों को अंकुश में रखा जा सके, अनुशासन में चलाया जा सके।

इमेज का डाउनलोड लिंक नीचे दिया गया है

नेतृत्व का अर्थ है वह वर्चस्व जिसके सहारे परिचितों और अपरिचितों को अंकुश में रखा जा सके, अनुशासन में चलाया जा सके। : Netritva ka arth hai vah varchasva jiske sahare parichito aur aparichito ko ankush me rakha ja sake, anushasan me laaya ja sake. - प्रज्ञा सुभाषितनेतृत्व का अर्थ है वह वर्चस्व जिसके सहारे परिचितों और अपरिचितों को अंकुश में रखा जा सके, अनुशासन में चलाया जा सके। : Netritva ka arth hai vah varchasva jiske sahare parichito aur aparichito ko ankush me rakha ja sake, anushasan me laaya ja sake. - प्रज्ञा सुभाषित

Leave A Reply

Your email address will not be published.