किसी समाज, देश या व्यक्ति का गौरव अन्याय के विरुद्ध लड़ने में ही परखा जा सकता है।

इमेज का डाउनलोड लिंक नीचे दिया गया है

किसी समाज, देश या व्यक्ति का गौरव अन्याय के विरुद्ध लड़ने में ही परखा जा सकता है। : Kisi samaj, dewsh ya vyakti ka gaurav anyaay ke viruddha ladne me hi parkhaa ja sakta hai - प्रज्ञा सुभाषितकिसी समाज, देश या व्यक्ति का गौरव अन्याय के विरुद्ध लड़ने में ही परखा जा सकता है। : Kisi samaj, dewsh ya vyakti ka gaurav anyaay ke viruddha ladne me hi parkhaa ja sakta hai - प्रज्ञा सुभाषित

kisi samaj, dewsh ya vyakti ka gaurav anyaay ke viruddha ladne me hi parkhaa ja sakta hai | किसी समाज, देश या व्यक्ति का गौरव अन्याय के विरुद्ध लड़ने में ही परखा जा सकता है।