अपने दोषों की ओर से अनभिज्ञ रहने से बड़ा प्रमाद इस संसार में और कोई दूसरा नहीं हो सकता।

इमेज का डाउनलोड लिंक नीचे दिया गया है

अपने दोषों की ओर से अनभिज्ञ रहने से बड़ा प्रमाद इस संसार में और कोई दूसरा नहीं हो सकता। : Apne dosho ki or se anbhigya rahne se bada pramaad is sansaar me doosra nahi hai - प्रज्ञा सुभाषितअपने दोषों की ओर से अनभिज्ञ रहने से बड़ा प्रमाद इस संसार में और कोई दूसरा नहीं हो सकता। : Apne dosho ki or se anbhigya rahne se bada pramaad is sansaar me doosra nahi hai - प्रज्ञा सुभाषित

apne dosho ki or se anbhigya rahne se bada pramaad is sansaar me doosra nahi hai | अपने दोषों की ओर से अनभिज्ञ रहने से बड़ा प्रमाद इस संसार में और कोई दूसरा नहीं हो सकता।