सामाजिक, राष्ट्रीय एवं अंतर्राष्ट्रीय क्षेत्रों में जो विकृतियाँ, विपन्नताएँ दृष्टिगोचर हो रही हैं, वे कहीं आकाश से नहीं टपकी हैं, वरन् हमारे अग्रणी, बुद्धिजीवी एवं प्रतिभा सम्पन्न लोगों की भावनात्मक विकृतियों ने उन्हें उत्पन्न किया है।

इमेज का डाउनलोड लिंक नीचे दिया गया है

सामाजिक, राष्ट्रीय एवं अंतर्राष्ट्रीय क्षेत्रों में जो विकृतियाँ, विपन्नताएँ दृष्टिगोचर हो रही हैं, वे कहीं आकाश से नहीं टपकी हैं, वरन् हमारे अग्रणी, बुद्धिजीवी एवं प्रतिभा सम्पन्न लोगों की भावनात्मक विकृतियों ने उन्हें उत्पन्न किया है। : Samajik, rashtriya aur antarrashtriya kshetron me jo vikritiya, vipannataye drishtigochar hain we aakash se nahi tapki varan ahamare agrini, buddhijeevi aur pratibhasapanna loho ki bhavatmak vikritiyon ne unhe utpanna kiya hai - प्रज्ञा सुभाषितसामाजिक, राष्ट्रीय एवं अंतर्राष्ट्रीय क्षेत्रों में जो विकृतियाँ, विपन्नताएँ दृष्टिगोचर हो रही हैं, वे कहीं आकाश से नहीं टपकी हैं, वरन् हमारे अग्रणी, बुद्धिजीवी एवं प्रतिभा सम्पन्न लोगों की भावनात्मक विकृतियों ने उन्हें उत्पन्न किया है। : Samajik, rashtriya aur antarrashtriya kshetron me jo vikritiya, vipannataye drishtigochar hain we aakash se nahi tapki varan ahamare agrini, buddhijeevi aur pratibhasapanna loho ki bhavatmak vikritiyon ne unhe utpanna kiya hai - प्रज्ञा सुभाषित

samajik, rashtriya aur antarrashtriya kshetron me jo vikritiya, vipannataye drishtigochar hain we aakash se nahi tapki varan ahamare agrini, buddhijeevi aur pratibhasapanna loho ki bhavatmak vikritiyon ne unhe utpanna kiya hai | सामाजिक, राष्ट्रीय एवं अंतर्राष्ट्रीय क्षेत्रों में जो विकृतियाँ, विपन्नताएँ दृष्टिगोचर हो रही हैं, वे कहीं आकाश से नहीं टपकी हैं, वरन् हमारे अग्रणी, बुद्धिजीवी एवं प्रतिभा सम्पन्न लोगों की भावनात्मक विकृतियों ने उन्हें उत्पन्न किया है।