किसी से इर्ष्या करके मनुष्य उसका तो कुछ बिगाड़ नहीं सकता है, पर अपनी निद्रा और अपना सुख-संतोष अवश्य खो देता है।

इमेज का डाउनलोड लिंक नीचे दिया गया है

किसी से इर्ष्या करके मनुष्य उसका तो कुछ बिगाड़ नहीं सकता है, पर अपनी निद्रा और अपना सुख-संतोष अवश्य खो देता है। : Kisi se irshya karke manushya uska to kuchh nahi bigaad sakta par apni nidra, apa sukh aur apna santosh avashya kho deta hai. - प्रज्ञा सुभाषितकिसी से इर्ष्या करके मनुष्य उसका तो कुछ बिगाड़ नहीं सकता है, पर अपनी निद्रा और अपना सुख-संतोष अवश्य खो देता है। : Kisi se irshya karke manushya uska to kuchh nahi bigaad sakta par apni nidra, apa sukh aur apna santosh avashya kho deta hai. - प्रज्ञा सुभाषित

kisi se irshya karke manushya uska to kuchh nahi bigaad sakta par apni nidra, apa sukh aur apna santosh avashya kho deta hai. | किसी से इर्ष्या करके मनुष्य उसका तो कुछ बिगाड़ नहीं सकता है, पर अपनी निद्रा और अपना सुख-संतोष अवश्य खो देता है।