बुराई मनुष्य के बुरे कर्मों की नहीं, वरन् बुरे विचारों की देन होती है।

इमेज का डाउनलोड लिंक नीचे दिया गया है

बुराई मनुष्य के बुरे कर्मों की नहीं, वरन् बुरे विचारों की देन होती है। : Buraai manushya ke buro karmo ki nahi, varan bure vicharo ki den hoti hai. - प्रज्ञा सुभाषितबुराई मनुष्य के बुरे कर्मों की नहीं, वरन् बुरे विचारों की देन होती है। : Buraai manushya ke buro karmo ki nahi, varan bure vicharo ki den hoti hai. - प्रज्ञा सुभाषित

buraai manushya ke buro karmo ki nahi, varan bure vicharo ki den hoti hai. | बुराई मनुष्य के बुरे कर्मों की नहीं, वरन् बुरे विचारों की देन होती है।