अपनी दुष्टताएँ दूसरों से छिपाकर रखी जा सकती हैं, पर अपने आप से कुछ भी छिपाया नहीं जा सकता।

इमेज का डाउनलोड लिंक नीचे दिया गया है

अपनी दुष्टताएँ दूसरों से छिपाकर रखी जा सकती हैं, पर अपने आप से कुछ भी छिपाया नहीं जा सकता। : Apni dushtatayen, doosro se chhipakar rakhi  ja sakti hain par apne aap se kuchh bhi chhipaya nahi ja sakta - प्रज्ञा सुभाषितअपनी दुष्टताएँ दूसरों से छिपाकर रखी जा सकती हैं, पर अपने आप से कुछ भी छिपाया नहीं जा सकता। : Apni dushtatayen, doosro se chhipakar rakhi  ja sakti hain par apne aap se kuchh bhi chhipaya nahi ja sakta - प्रज्ञा सुभाषित

apni dushtatayen, doosro se chhipakar rakhi ja sakti hain par apne aap se kuchh bhi chhipaya nahi ja sakta | अपनी दुष्टताएँ दूसरों से छिपाकर रखी जा सकती हैं, पर अपने आप से कुछ भी छिपाया नहीं जा सकता।